इमरान खान के सीख देने वाले बयान पर संबित पात्रा का पलटवार, कहा-पहले रोटी का जुगाड़ कर ले PAK

New Delhi: इमरान खान के बड़बोले बयान को लेकर काफी हंगामा मच गया है। वहीं अब पाक पीएम के बयान पर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने पलटवार करते हुए करारा जवाब दिया है। संबित ने कहा-जो पाक सीख देने की बात कह रहा है, वहां खुद धार्मिक अल्पसंख्यकों की हालत बदतर है। नागरिकों के लिए रोटी का जुगाड़ नहीं कर पा रहे और दूसरों को सीख दे रहे हैं।

इमरान के बयान पर भड़के पात्रा

पाक पीएम इमरान के सीख देने वाले बयान पर अब भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने है। वह कहते हैं कि, जो देश अपनी धरती पर आतंकवाद को पनाह देता हो, जहां खुद धार्मिक अल्पसंख्यकों की हालत बदतर हो, जिसके पास खुद खाने के लिए रोटी न हो, वह हमे सीख देंगे। हमे उनसे सीख लेने की आवश्यकता नहीं है।

नसीर और ओवैसी ने दिखाया इमरान को आइना

naseer imran

वहीं इमरान खान के इस बयान पर ओवैसी ने कहा कि, इमरान भारत से सीख लें और अपने मुल्क को संभालें। वह देश को न बताएं की कैसे बर्ताव करना है। जाहिर है नसीररूद्दीन शाह के बयान के बाद पाक पीएम इमरान ने भारत सरकार को सीख देने की बात कही थी। इसके साथ ही नसीर ने भी पलटवार करते हुए कहा कि, इमरान अपना काम करें और अपने घर को संभाले फिर दूसरों को सिख देने की सोंचे।

इमरान खान-भारत में मुस्लिमों पर हो रहे जुल्म

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने अब नसीरुद्दीन शाह के बयान को लेकर अपनी प्रतिक्रया जाहिर की है। इमरान कहते हैं कि, भारत सरकार मुस्लिमों पर ज़ुल्म कर रही है। साथ ही वह कहते हैं कि, भारत में मुस्लिमों को रहने में डर लग रहा है। ऐसे में अब इमरान खान के बयान के बाद विवाद अधिक बढ़ता हुआ नजर आ सकता है। जाहिर है इमरान के इस विवादित बयान को लेकर अब भारत में काफी हलचल देखने को मिलने वाली है। जाहिर है पिछले दिनों बुलंदशहर में हुई घटना के बाद से असहिष्णुता फिर से चर्चा में आ गया है। नसीरुद्दीन शाह ने इस मामले की शुरुआत की और उनके बयान को लेकर हंगामा जारी है। वहीं अब इमरान खान ने बयान देकर इस मामले को और गर्म कर दिया है।

 नसीर के बयान पर विवाद जारी

इन दिनों बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता नसीरुद्दीन शाह अपने बयान को लेकर काफी चर्चा में हैं। नसीर के बयान को लेकर काफी विवाद खड़ा हो गया है। वहीं अब अनुपम खेर ने बयान का जवाब देते हुए पलटवार किया है और कहा कि, देश में लोगों को इतनी आजादी मिल चुकी है कि, वह सेना पर पत्थर चला रहे हैं। आर्मी को गाली दे रहे हैं, तो अब और कितनी आजादी चहिये। आगे अनुपम कहते हैं कि, लोग जैसा सोंचते हैं वैसा होता नहीं है।