सैफई: रैगिं’ग करने वाले छात्रों को किया गया नि’लंबित,पूरे बैच पर भी लगा जुर्मा’ना

सैफई मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस प्रथम वर्ष के छात्रों के साथ रै’गिं’ग का मामला सामने आने के बाद आखिरकार सात एमबीबीएस छात्रों को नि’लं’बित कर दिया गया है। इसके अलावा सभी आ’रो’पियों पर 25-25 हजार रुपये का जु’र्मा’ना भी लगाया गया है।

गौरतलब है कि इटावा के सैफई में स्थित उत्तर प्रदेश यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज (यूपीयूएमएस) में रै’गिं’ग का एक वीडियो सामने आया था जिसमें एमबीबीएस प्रथम वर्ष के छात्रों के बाल मुंडवा दिए थे और और सलाम ठोंकते हुए एक लाइन में सर झुकाते हुए चलते देखा गया ।

वीडियो वायरल होने के बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने पहले तो ना-नुकुर की साथ ही छात्र भी यह बताने से बच रहे थे कि रै’गिं’ग हुई है लेकिन आखिरकार अब प्रशासन ने 2018 बैच के सात एमबीबीएस छात्रों को तीन महीनों के लिए नि’लंबि’त कर दिया है। साथ ही 25-25 हजार का जु’र्मा’ना भी लगाया गया है। ना सिर्फ  इन सात छात्रों पर बल्कि बैच के अन्य सभी छात्रों पर 5-5 हजार का जु’र्मा’ना लगाया गया है।

इससे पहले कुलपति ने इस मामले को लेकर बेहद अजीबो-गरीब बयान दिया था उन्होंने कहा था कि चिकित्सा शिक्षा के विद्यालयों और महाविद्यालयों में सिर मुंडवाने का चलन है। छात्रों का एक लाइन में चलना अनुशासन है। ऐसा सभी जगह होता है। मैंने खुद सभी छात्रों से पूछा है, लेकिन किसी ने रै’गिं’ग की शिकायत नहीं की। कुलपति ने कहा ”जांच के लिए एक टीम बनाई थी जिसकी रिपोर्ट में भी यही आया कि रै’गिं’ग नहीं की गई है।”

बता दें कि  संरक्षक मुलायम सिंह के गांव सैफई में बने मेडिकल विश्वविद्यालय में एमबीबीएस और एमएस, एमडी, पैरामेडिकल आदि की पढ़ाई होती है। इसमें एक हजार से अधिक छात्र-छात्राएं हैं जिसमें करीब 150 छात्र-छात्राएं एमबीबीएस कर रहे हैं। एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे सभी छात्रों के सिर मुंडवा दिया गया है।

kaushlendra

सामाजिक और राजनीतिक विषयों पर लिखने में दिलचस्पी है।गांधी जी का फैन हूँ।समाज में जागरुकता लाना उद्देश्य है।पत्रकारिता मेरा प्रोफेशन है,जुनून है और प्यार भी है।
kaushlendra