सबरीमला में दर्शन करने आए भक्तों ने कहा सुप्रीम कोर्ट भगवान से बड़ा नहीं हो सकता

New Delhi : केरल के प्रसिद्ध भगवान आय्यपा का मंदिर सबरीमला के पट आज खुल गया। मंदिर के खुलते ही भक्तों के भीड़ मंदिर परिसर में भगवान के दर्शन के लिए आया। मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर वहां दर्शन करने आए भक्तों ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट भगवान से बड़ा नहीं हो सकता है, यहां पर महिलाओं को नहीं आना चाहिए।

इससे पहले मंदिर में आज कुछ महिलाएं दर्शन करने आई थी उन्हें पुलिस ने वापस भेज दिया है। पुलिस ने पंबा की 10 महिलाओं को वापस भेज दिया है। महिलाएं (10 से 50 वर्ष की उम्र के बीच) आंध्र प्रदेश से मंदिर में पूजा करने के लिए आई थीं। मंदिर आज शाम को मंडला पूजा उत्सव के लिए खुलने का कार्यक्रम है।

आपको बता दें मंदिर में तीन महीने की तीर्थयात्रा मौसम के दौरान यहां पूजा-अर्चना की जा सकेगी। सबरीमाला मंदिर मामले की सुनवाई को सुप्रीम कोर्ट की बड़ी बेंच को रेफर किए जाने के बाद से ही एक बार फिर इस मंदिर को लेकर विवादों का बाजार गर्म हो चुका है।

वहीं इस बीच केरल सरकार की सबरीमाला में सुरक्षा देने और महिलाओं को ले जाने की कोई योजना नहीं है। सुप्रीम कोर्ट का अंतिम फैसला आने तक इसे लेकर भ्रम की स्थिति बनी हुई है। कुछ महिला कार्यकर्ताओं ने तो हिलटॉप मंदिर में पूजा करने की धमकी तक दे डाली है।
सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने वाले फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका को बड़ी बेंच को भेज दिया है। सबरीमाला मंदिर की समीक्षा याचिका को 3: 2 के बहुमत के साथ इसे बड़ी संवैधानिक पीठ को रेफर कर दिया है।