सुषमा स्वराज की जगह विदेश मंत्री बनाए गए एस जयशंकर,डोकलाम विवाद को सुलझाने में निभाई थी भूमिका

New Delhi: मोदी सरकार 2.0 का एक्स फैक्टर कहे जाने वाले पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर को Sushma Swaraj  की जगह विदेश मंत्री बनाया गया है। प्रधानमंत्री Narendra Modi  ने S Jaishankar  को सरकार में शामिल करके सभी को चौंका दिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा फैसला लेते हुए पूर्व विदेश सचिव S Jaishankar  को सुषमा स्वराज की जगह विदेश मंत्रालय बनाया है। सुषमा स्वराज ने सेहत खराब होने का हवाला देते हुए सरकार में मंत्री पद लेने से इनकार कर दिया था। सुषमा स्वराज ने इस बार लोकसभा का चुनाव भी नहीं लड़ा था।

विदेश मंत्री बन चुके S Jaishankar  ने डोकलाम विवाद से लेकर संयुक्त राष्ट्र में भारत की पैरवी तक जबरदस्त भूमिका निभाई है। एस जयशंकर और नरेंद्र मोदी की जान पहचान उनके पीएम बनने से पहले की है। 2012 में जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में चीन के दौरे पर थे, उसी दौरान जयशंकर उनसे मिले थे।

Live India

जनवरी 2015 से लेकरक जनवरी 2018 तक विदेश सचिव रहते हुए उन्होंने मोदी के पहले कार्यकाल के दौरान उनकी विदेश नीति को आकार प्रदान करने में अहम भूमिका निभाई, जिसके चलते खासतौर से अमेरिका और अरब देशों समेत प्रमुख देशों के साथ भारत के संबंध को महत्वपूर्ण विकास व विस्तार मिला। S Jaishankar  साल 2013 में अमेरिका में भारत के राजदूत रहे हैं।

गुजरात की जोड़ी अब केंद्र में भी दिखाएगी दम, मोदी सरकार में गृहमंत्री बने अमित शाह

S Jaishankar  ने सितंबर साल 2014 में प्रधानमंत्री के रूप में मोदी की पहली अमेरिका यात्रा की योजना तैयार की और इसे सफल बनाने में अहम भूमिका निभाई। मोदी ने एस जयशंकर की देखरेख में मैडिसन स्क्वायर पर प्रवासी भारतीयों को संबोधित किया था। जयशंकर को इसी साल देश के चौथे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्मश्री से नवाजा गया।