रिलायंस ने सउदी की Aramco के साथ की बड़ी डील, करेगी 75 बिलियन डॉलर का निवेश

New Delhi: रिलायंस इंडस्ट्रीज की आज सालान 42वीं आम बैठक में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चैयरमैन और मैनेजिंग एडिटर मुकेश अंबानी ने खुशी के साथ इस बात की घोषणा की कि सउदी की Aramco और रिलायंस ने लंबी साझेदारी के लिए हाथ मिला लिए हैं। ये साझेदारी उनकी ऑयल टू कैमिकल डिविजन में होगी।

इसे उन्होंने रिलायंस कंपनी के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा विदेशी प्रत्यक्ष निवेश कहा। इस डील के तहत सउदी की कंपनी रिलायंस की ऑयल-टू-कैमिकल या रिफायनिंग और पेट्रोकैमिकल के बिजनेस में 75 बिलियन डॉलर की हिस्सेदारी होगी जो कि उनकी कंपनी का 20 प्रतिशत की हिस्सेदारी है।

इसी के साथ मुंबई में चल रही अपनी इस बैठक में उन्होंने इस बात की भी घोषणा की कि रिलायंस इंडस्ट्री ब्रिटिश मल्टीनेशनल कंपनी बीपी के साथ एक ज्वाइंट वेंचर में जा रहे हैं जिसमें उसके 49 प्रतिशत हिस्सेदारी इस ब्रिटिश कंपनी के हाथ में होगी और इससे रिलायंस को 7,000 करोड़ मिलेंगे। रिलायंस ने एक ऑयल से कैमिकल बनाने की एक स्ट्रेटजी तैयार की है जिससे वो जामनगर रिफायनरी में फ्यूल के उत्पादक से कैमिकल के उत्पादक में बदल देंगे।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के ऑयल टु केमिकल कारोबार का राजस्‍व 5 लाख करोड़ रुपये का है। विश्‍व की सबसे बड़ी तेल उत्‍पादक कंपनी सउदी Aramco रिलायंस में हिस्‍सेदारी लेने के बाद प्रतिदिन 5 लाख बैरल तेल की आपूर्ति करेगी। जामनगर में रिलायंस इंडस्‍ट्रीज का विश्‍व का सबसे बड़ा रिफाइनिंग कॉम्‍प्‍लेक्‍स है। इसकी क्षमता 14 लाख बैरल प्रतिदिन की है।