पाकिस्तान को भारत की दो टूक , माहौल ना बिगाड़ें इमरान खान के मंत्री

NEW DELHI: बैलिस्टिक मिसाइल गजनवी के परीक्षण के बीच पाकिस्तानी गीदड़भभकी का भारत ने करारा जवाब दिया है। विदेश मंत्रालय ने साफ-साफ शब्दों में कहा है कि पाकिस्तान के नेता माहौल को खराब करने की कोशिश न करें। बता दें कि पाकिस्तान जम्मू एवं कश्मीर को मिले विशेष दर्जे को समाप्त करने के भारत के फैसले से काफी परेशान है। यही कारण है कि जम्मू-कश्मीर को लेकर पाकिस्तान के नेता लगातार भड़काऊ बयान दे रहे हैं

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि भारत के आंतरिक मामलों पर पाकिस्तानी नेताओं के हालिया बयानों की हम कड़ी निंदा करते हैं। ये बहुत गैरजिम्मेदाराना बयान हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के मंत्री शेख रशीद पर भारत का बयान माहौल को खराब करने की कोशिश में दिया गया है।

बता दें कि बुधवार को शेख रशीद ने कहा कि ‘कश्मीर की आजादी के अंतिम संघर्ष का वक्त आ गया है और इस बार भारत के साथ होने वाली जंग अंतिम होगी।’ रवीश कुमार ने कहा कि दुनिया के सामने पाकिस्तान तनावपूर्ण हालात दिखाना चाहता है। लेकिन पाकिस्तान की चाल को दुनिया समझती है। दुनिया जानती है पाकिस्तान माहौल खराब कर रहा है। जम्मू-कश्मीर को लेकर पाकिस्तान की तरफ से दिए जा रहे बयान हमारे मामले में दखल है। हमारी सुरक्षा एजेंसियां हालात से निपटने में सक्षम हैं।

उन्होंने कहा कि 5 अगस्त के बाद जम्मू-कश्मीर में एक भी गोली नहीं चलाई गई। पुलिस की कार्रवाई में घाटी में किसी की जान नहीं गई। 85 फीसदी पुलिस थाना क्षेत्र बिना किसी डेटा रिस्ट्रक्शन के हैं। अस्पताल में दवाओं की कमी को लेकर अफवाहें फैलाने की कोशिश की गई लेकिन आवश्यक दवा की कमी नहीं थी। अब धीरे-धीरे और सकारात्मक सुधार देखने को मिल रहे हैं।

यह पूछे जाने पर कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए हवाई क्षेत्र को पाकिस्तान ने बंद किया है। जवाब में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की ओर से हवाई क्षेत्र को बंद करने की पुष्टि करने वाला कोई बयान नहीं आया है।

गुजरात में आतंकी हमले के अलर्ट पर बात करते हुए MEA रवीश कुमार ने कहा कि हम सभी जानते हैं कि पाकिस्तान ने आतंकवाद को अपनी नीति के रूप में अपनाया। वो अपनी जमीन से आतंकवाद और आतंकवादी समूहों को पनपने में मदद करता रहा है। हम उम्मीद करते हैं कि वो आतंक के खिलाफ कार्रवाई करेगा और एक अच्छा पड़ोसी बनेगा। हमें उम्मीद है कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मानदंडों और दायित्व का पालन करेगा।