रावण ने पीड़ितों के लिये सुरक्षा मांगी, योगी बोले- जातीय फसाद चाहते हैं विपक्षी, विकास पसंद नहीं इनको

New Delhi : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज 4 अक्टूबर को कहा कि विपक्षी पार्टियां प्रदेश में फसाद, उन्माद के षड‍्यंत्रों में लगी हुई है। राज्य सरकार लोकहित के कार्यों में लगी है। विकास कार्यों को आगे बढ़ाने में लगी है लेकिन विपक्षियों को यह पसंद नहीं। द्वेष फैलाने की कोशिशें हो रही हैं। विपक्षी पार्टियां समाज को बांटने के प्रयासों में जुटी हैं। उनचुनाव की तैयारियों में जुटे भाजपा कार्यकर्ताओं और नेताओं से वर्चुअल मीटिंग करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि हमको इन षड‍्यंत्रों से आगे बढ़कर लोगों को विकास के कार्यों से जोड़ना होगा। उन्होंने कहा कि हाथरस में जो हो रहा है वो इसका परिचायक है। अब सबको पता चल गया है कि वे क्या कर रहे हैं।

इधर भीम सेना के चीफ चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण ने हाथरस जाकर पीड़ित परिवारीजनों से मुलाकात की। उन्होंने मुलाकात के बाद कहा कि पीड़ितों की जानमाल की सुरक्षा पर बड़ा प्रश्नचिह्न है। इन लोगों को वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी जानी चाहिये। उन्होंने पीड़ितों को मुआवजा के साथ दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की अपनी डिमांड दोहराई। उनसे पहले आज समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल के नेताओं ने भी पीड़ितों के परिजनों से मुलाकात की।
इधर हाथरस के पूर्व विधायक और भाजपा नेता राजवीर सिंह पहलवान ने आज रविवार 4 अक्टूबर को अपने आवास पर ठाकुरों की एक मीटिंग की और कहा कि न्यूज चैनल्स, मीडिया हाथरस प्रकरण के बारे में झूठा प्रचार कर रहे हैं। वैसा कुछ हुआ ही नहीं है। पीड़ित बालिका के साथ किसी तरह का अपराध नहीं हुआ। उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ की मामले की जांच सीबीआई से कराने की अनुशंसा का स्वागत किया। नार्को टेस्ट भी होना चाहिये। क्योंकि ऐसी घटना घटी ही नहीं। झूठा प्रचार किया जा रहा है।

अब इस मामले में दूध का दूध और पानी का पानी होना बेहद जरूरी है। यह पंचायत पीड़ित के घर के बगल में की गई वो भी तब जब पूरे जिले में धारा 144 प्रभावी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

− three = two