भारत सबसे अधिक स्टार्टअप वाले देशों में शामिल हो गया है : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

New Delhi: केन्द्र सरकार द्वारा स्टार्टअप को बढ़ावा देने वाले कार्यक्रम स्टार्टअप इंडिया का असर अब दिखने लगा है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए बताया है कि भारत दुनिया के सबसे अधिक स्टार्टअप वाले देशों में शामिल हो गया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद में अपने अभिभाषण में कहा कि “ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस की रैंकिंग में 2014 में भारत 142वें स्थान पर था और पिछले 5 वर्षों में 65 रैंक ऊपर आकर हम 77वें स्थान पर पहुंच गए हैं।”

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज संसद के संयुक्त सत्र को सम्बोधित किया। अपने अभिभाषण में उन्होंने कहा कि भारत दुनिया के सबसे अधिक स्टार्टअप वाले देशों में शामिल हो गया है। अपने अभिभाषण में उन्होंने कई मुद्दों का जिक्र किया। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने वर्ष 2016 मे 16 जनवरी को भारत में भी एक नए कार्यक्रम ‘स्टार्ट अप इंडिया’ की शुरुआत की थी। इसके तहत उन्होंने एक 19 सूत्रीय ऐक्शन प्लान की घोषणा की थी, जो स्टार्टअप कंपनियों की मदद के लिए था।


केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने राष्ट्रपति के अभिभाषण के एक हिस्से को ट्विट किया और लिखा कि “भारत सबसे अधिक स्टार्टअप वाले देशों में शामिल हो गया है। हमारा लक्ष्य है 2024 तक देश में 50,000 स्टार्टअप स्थापित हो सकें। छोटे दुकानदारों के लिये अलग पेंशन योजना को मंजूरी दी गयी है, इसका लाभ लगभग 3 करोड़ छोटे दुकानदारों को मिलेगा: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी”
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने अभिभाषण में कहा कि मुझे महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के वर्ष में संसद के पहले संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए बेहद प्रसन्नता हो रही है। इस लोकसभा के लिए निर्वाचित सभी सांसदों को मैं हार्दिक बधाई देता हूं। भारत की जनता को मैं धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने स्पष्ट जनादेश दिया है। साथ ही रामनाथ कोविंद ने कहा, ‘देश के 61 करोड़ से अधिक मतदाताओं ने मतदान कर, एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है और दुनिया में भारत के लोकतंत्र की साख बढ़ाई है।