रामदास अठावले बोले- गरीब सवर्णो को मिले 25 फीसदी आरक्षण, सभी दल दें सरकार का साथ

New Delhi: एससी एसटी कानून और आरक्षण को लेकर देशभर में मचे घमासान के बीच मोदी सरकार में मंत्री रामदास अठावले ने सवर्णों को आरक्षण देने की वकालत की है।
केंद्रीय सामाजिक न्याय एंव आधिकारिता राज्यमंत्री रामदास अठावले ने आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों को 25 फीसदी आरक्षण देने की बात कही है। अठावले ने शुक्रवार को कहा कि आरक्षण के दायरे को अब 50 प्रतिशत से बढ़ाकर 75 प्रतिशत करना होगा और ऐसा करने के लिए सभी दलों को सरकार का साथ देना होगा।

अठावले ने कहा कि अगर गरीब सवर्णों को 25 प्रतिशत आरक्षण देने का बिला पारित हो जाता है तो सभी समाज के लोगों को भला हो जाएगा। सवर्ण सोचते हैं कि दलितों को आरक्षण मिलता है मगर उन्हें नहीं दिया जाता। सरकार अगर आरक्षण को 75 प्रतिशत तक बढ़ाए तो मेरा समझना है कि सभी को आरक्षण का लाभ मिल जाएगा। सभी दलों को इसके लिए सरकार का साथ देना चाहिए। हालांकि अठावले ने यह भी कहा कि सरकार आगमी शीतकालीन शत्र में पदोन्नति में आरक्षण देने के लिए बिल पारित कर सकती है।

केंद्रीय मंत्री ने एससी/एसटी कानून में सुप्रीम कोर्ट के आदेश को पलटने के सरकार के फैसले का जिक्र करते हुए दोहराया कि अब कानून में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। वह सभी पक्षों को बुलाकर बात करेंगे और उन्हें विश्वास दिलाएंगे कि इस कानून का दुरूपयोग नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सवर्णों को कानून में परिवर्तन की मांग करने के बजाय दलितों के प्रति अपनी सोच बदलनी चाहिए।

अठावले ने कहा कि सरकार के कदम के खिलाफ गुरुवार को बीजेपी शासित राज्यों में हुआ भारत बंद दरअसल विपक्षी दलों की हरकत थी और सरकार को बदनाम करने के लिए उन्होंने ऐसा किया। आरपीआई के अध्यक्ष ने वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की तीन-चार सीटों पर चुनाव लड़ने की इच्छा जताते हुए कहा कि वह इस सिलसिले में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से बात करेंगे। उन्होंने दावा किया कि बीएसपी के कई मजबूत नेता उनके संपर्क में हैं और आरपीआई के साथ आने से बीजेपी को चुनाव में और भी लाभ मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *