श्रीराम ने किया रावण वध, घर-घर में खुशियों की लहर : जानें क्यों रावण के हृदय में तीर नहीं मारा श्रीराम ने

New Delhi : लॉकडाउन में लोगों की आंखो का तारा बना रामायण सीरियल आज समाप्त हो जायेगा। इस टीवी सीरियल में श्रीराम ने आज रावण का वध कर दिया। और रावण का वध होते ही लोगों ने खुशियां मनानी शुरू कर दी। लोग तालियां बजाने लगे और सीरियल का रोमांच सातवें आसमान पर आ चढ़ा। लोगों की इस खुशी ने तीन दशक पहले के रोमांच को तरोताजा कर दिया। इस युद्ध में एक बेहद प्रेरक बात भी हुई। इस युद्ध के दौरान श्रीराम ने रावण के हृदय में वाण नहीं मारा।
युद्ध में श्रीराम जब दशानन रावण के एक सिर काटते तो दूसरा सिर वापस आ जाता। इस तरह भगवान राम की कोशिश हर तरह से बेकार हो रही थी। जब देवताओं ने बह्मा जी से पूछा कि भगवान राम रावण के ह्दय में तीर मारकर उसकी जीवन लीला क्यों समाप्त नहीं कर रहे हैं तो बह्मा जी ने कहा – दरअसल रावण के ह्दय में सीता जी का वास है और सीता के ह्दय में भगवान राम का। अगर भगवान राम रावण के ह्दय में तीर मारते हैं तो संपूर्ण सृष्टि का अंत हो जाएगा।

रामायण टीवी सीरियल का मनमोहक दृश्य

बह्मा जी ने बताया कि जैसे ही रावण के ह्दय से सीता का ध्यान कम होगा तो भगवान राम उसके ह्दय में तीर मार देंगे। इस बीच विभीषण राम के पास जाकर बताते हैं कि ब्रह्माजी के वरदान से रावण के नाभि में अमृत है। इस वजह से रावण की मौत नहीं हो रही है। उसके नाभि पर वार करके अमृत को सुखाना होगा तभी रावण की मौत होगी। इसके बाद भगवान राम ने रावण के नाभि में तीर मारा। इससे उसका अमृत सूख गया और उसका ध्यान सीता से हठ गया । इस प्रकार भगवान राम ने रावण का वध किया।
इधर लॉकडाउन के बीच शुरू हुआ ‘रामायण’ आज यानी 18 अप्रैल को समाप्त हो जायेगा। रामायण के रिकार्डतोड़ सफलता के बाद दूरदर्शन अब लव-कुश का पुनः प्रसारण करने जा रहा है, जिसे मूलरूप से ‘उत्तर रामायण’ के नाम से जाना जाता है। हालांकि, 19 अप्रैल से इसे सिर्फ रात 9 बजे के स्लॉट में टेलीकास्ट दिखाया जाएगा, जबकि सुबह 9 बजे के स्लॉट में रात वाले एपिसोड का ही रिपीट टेलीकास्ट होगा। प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर ने इसकी जानकारी ट्विटर पर दी। उन्होंने इस बात के संकेत भी दिए हैं कि आने वाले समय में 90 के दशक के पॉपुलर शो ‘श्रीकृष्णा’ का पुनः प्रसारण भी किया जा सकता है।

रामायण के तीन मुख्य किरदार

‘लव-कुश’ उत्तर रामायण के नाम से 1988 में प्रसारित किया गया था। यह भी रामानंद सागर के मार्गदर्शन में ही बना था। रविवार रात से ‘उत्तर रामायण’ अथवा ‘लव-कुश’ की कहानी टीवी पर प्रसारित की जायेगी। लव कुश या उत्तर रामायण 39 एपिसोड में है। इसमें सीता माता के महल से वनवास जाने की कहानी दिखाई गई है। इसमें भी रामायण के ही पात्र नजर आयेंगे। लव और कुश की भूमिका में क्रमशः स्वप्निल जोशी और मयूरेश क्षत्रदे नजर आएंगे।
प्रसार भारती के सीईओ शशि ने अपने ट्वीट में लिखा है – कई राज्यों में सुबह दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो के माध्यम से एजुकेशन क्लासेस शुरू कर दी गई हैं। इसे देखते हुए ‘उत्तर रामायण’ के फ्रेश एपिसोड रात 9 बजे के स्लॉट में ही दिखाए जाएंगे, जिनका रिपीट टेलीकास्ट सुबह 9 बजे के स्लॉट में किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifty one + = 57