अमेरिका में CAA और NRC के समर्थन में रैली, बताया देश के लिए जरूरी

New Delhi : अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के लोगों ने मंगलवार को बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरकर नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन (एनआरसी) का समर्थन किया। भारतीय अमेरिकियों ने ओहायो-ह्यूस्टन समेत कई शहरों में रैली कर सीएए और एनआरसी के बारे में गलत जानकारी और भ्रम दूर करने की कोशिश की।

केंद्र सरकार ने हाल ही में संसद से नागरिकता कानून पास कराया है। इसके तहत 31 दिसंबर 2014 तक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आ चुके गैरमुस्लिमों को भारत की नागरिकता दी जाएगी। रैली के आयोजनकर्ताओं ने बताया कि सीएए-एनआरसी के समर्थन में पिछले कई दिनों से रैलियां निकाली जा रही हैं। सबसे पहले सिएटल के विक्टर स्टेनब्रुक पार्क में रैली निकाली गई। 20 दिसंबर को ह्यूस्टन में भारतीय दूतावास के सामने, जबकि 22 दिसंबर को ऑस्टिन स्थित कैपिटल बिल्डिंग, ओहायो के टेड कैल्टेनबैक पार्क और नार्थ कैरोलाइना के नैश स्क्वेयर पार्क में रैलियां आयोजित की गईं। इनमें सीएए-एनआरसी से जुड़ी जानकारियों को लोगों से साझा किया गया।

बताया गया है कि आने वाले दिनों में डैलस, शिकागो, सैन फ्रांसिस्को, न्यूयॉर्क, वॉशिंगटन, अटलांटा, सैन होसे और कुछ अन्य जगहों पर रैलियों का आयोजन किया जाएगा। ओहायो के डबलिन में रैली का आयोजन करने वाले विनीत गोयल ने कहा, “हमने सीएए और एनआरसी के बारे में इस्लामिक और वामपंथी संस्थाओं की तरफ से फैलाए गए डर को दूर करने के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं। वे कह रहे हैं कि सीएए मुस्लिमों को भारत से निकालने के लिए है, जो कि एक झूठ है।”

वहीं सिएटल में रैली का आयोजन करने वाली अर्चना सुनील ने कहा कि सीएए और एनआरसी का विरोध करने वाले ज्यादातर लोगों के पास जानकारी नहीं है। वे तर्कों पर बात नहीं करना चाहते, न ही इस बारे में सुनना चाहते हैं। वे सिर्फ झूठ फैला रहे हैं। इससे उनकी परेशानी पर किसी की नजर नहीं जा रही, जिन्हें देश के बंटवारे के बाद से ही समस्याओं से गुजरना पड़ा है।