राफेल डील पर सरकार को मिली क्लीन चिट, राजनाथ सिंह बोले- कांग्रेस के झूठे दावों का हुआ पर्दाफाश

New Delhi: राफेल डील को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसेफ की पीठ इस मामले की सुनवाई कर रही है। राफेल डील को लेकर मोदी सरकार को बड़ी राहत मिली हैं। इस पर देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह का बयान सामने आया है। राजनाथ सिंह ने कहा कि राफेल का सच देश के सामने आ गया हैं। हम पहले से ही कहते आ रहे हैं कि कांग्रेस द्वारा लगाए गए आरोप निराधार थे और राजनीतिक लाभ हासिल करने के लिए कांग्रेस लगातार मामले की उछाल रही थी।

दरअसल, सीजेआई गोगाई ने मोदी सरकार को क्लीन चिट दी हैं। सीजेआई ने सुनवाई करते हुए कहा कि राफेल सौदे पर कोई संदेह की बात नहीं है… विमान हमारे लिए जरूरी है। जानकारी के मुताबिक, चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि विमान सौदे की पूरी प्रक्रिया बिल्कुल सही है और राफेल की गुणवत्ता पर कोई सवाल नहीं है।  हमने सौदे की पूरी प्रक्रिया को पढ़ा है, कीमत देखना कोर्ट का काम नहीं है। अब ऐसे में राफेल सौदे पर आई सभी याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी हैं।

Rajnath Singh

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अदालत की निगरानी में इस डील को लेकर जांच किए जाने की मांग वाली याचिकाओं पर 14 दिसंबर के लिए फैसला सुरक्षित रख लिया था। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की बेंच ने इन याचिकाओं पर 14 नवंबर को सुनवाई की थी और फैसला सुरक्षित रख लिया था। इन याचिकाओं में अनुरोध किया गया कि राफेल विमानों की डील में कथित अनियमितताओं के लिए सीबीआई को एफआईआर दर्ज करने का निर्देश दिया जाए।

गौरतलब हैं कि राफेल डील में कथित अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए सबसे पहले एडवोकेट मनोहर लाल शर्मा ने जनहित याचिका दायर की थी। इसके बाद, एक दूसरे एडवोकेट विनीत ढांडा ने याचिका दायर कर सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में इस डील की जांच कराने का अनुरोध किया था। इस डील को लेकर ‘आप’ के सांसद संजय सिंह, दो पूर्व मंत्रियों, बीजेपी नेताओं- यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी के साथ एडवोकेट प्रशांत भूषण ने एक अलग याचिका दायर की थी। इन सब याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया हैं।