‘ISIS मॉड्यूल का भंडाफोड़’ को लेकर राजनाथ सिंह ने की NIA की तारीफ, बोले- ‘गुड जॉब टीम’

New Delhi: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने कल यानी 26 दिसंबर को दुनिया के आतंकी संगठन स्लामिक स्टेट (आईएस) के आतंकवाद मॉड्यूल हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम का पर्दाफाश किया। आतंक का यह नेटवर्क 3 से 4 महीने में ही तैयार हो गया था। इस नेटवर्क ने सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ा दी थी। लेकिन कल एनआईए ने 10 संदिग्धों को गिरफ्तार किया। एंजेसी का दावा हैं कि ये लोग दिल्ली और उत्तर भारत में विस्फोट करने की योजना बना रहे थे।

NIA की इस बड़ी सफलता को लेकर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बधाई दी है। NIA द्वारा आईएसआई के मॉड्यूल का भंडाफोड़ करने पर राजनाथ सिंह ने कहा कि यह बड़ी कामयाबी हैं और मैं NIA को बधाई देता हूं। इस मामले में बड़ा खुलासा हुआ। बताया जा रहा हैं कि इस आतंकी नेटवर्क में मौलवी से लेकर छात्र तक शामिल हैं।

जानकारी के मुताबिक, एनआईए की टीम ने दिल्ली और उत्तर प्रदेश समेत 16 ठिकानों पर छापेमारी की। इस दौरान लखनऊ में हुई छापेमारी में उन्हें आईएस के मॉड्यूल को फंडिंग करने के सबूत मिले। वीरगंज में एक घर पर कल सुबह 4 बजे छापा मारा गया। इस घर में रह रहे तीन भाईयों में से एक की पत्नी और उसके बेटे के कमरे की तलाशी ली। इस दौरान उनके मोबाइल फोन और वहां मौजूद दो लैपटॉप से सारा ट्रांसफर कर लिया गया।

Union Home Minister Rajnath Singh

 

पूछताछ में महिला ने बताया कि उसने कुछ समय पहले करीब पौने तीन लाख रुपये के जेवर बेचे थे। जेवर से मिली रकम को उसने एक शख्स के जरिए मॉडयूल चलाने वालो को भिजवा दिया। वहीं एनआईए के महानिरीक्षक आलोक मित्तल ने बताया कि छापेमारी के दौरान देसी रॉकेट लांचर, आत्मघाती जैकेट के सामान और टाइम बम बनाने में प्रयुक्त होने वाली 112 अलार्म घड़ियां मिली हैं।

उन्होंने बताया कि हमारे द्वारा बरामद 112 अलार्म घड़ियों से स्पष्ट है कि वह सिर्फ एक नहीं बल्कि बड़ी संख्या में बम बनाने की योजना बना रहे थे। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस के विशेष सेल और उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधक दस्ते के साथ मिलकर दिल्ली के जाफराबाद और सीलमपुर में छह जगहों पर जबकि उत्तर प्रदेश में 11 जगहों पर छापेमारी की। उत्तर प्रदेश के अमरोहा में छह, लखनऊ में दो, हापुड़ में दो और मेरठ में दो जगहों पर छापेमारी की गई।

आपको बता दें कि गिरफ्तार किए गए लोगों में कथित मास्टर माइंड 29 वर्षीय मुफ्ती मोहम्मद सुहैल भी शामिल है। वह पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अमरोहा का रहने वाला है। वह एक मस्जिद का मौलवी भी है। इसके अलावा नोएडा के एक निजी विश्वविद्यालय में पढ़ने वाला इंजीनियरिंग का छात्र, दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक के तीसरे वर्ष का छात्र और दो वेल्डर भी गिरफ्तार किए गए हैं।