चंद्रयान- 2 के चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश करने पर रक्षामंत्री ने दी बधाई ,कहा यह बड़ी उपलब्धि

New Delhi : इसरो के सबसे महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट चंद्रयान 2 ने मंगलवार को चंद्रमा की कक्षा (ऑर्बिट) में सफलतापूर्वक प्रवेश किया है। इसरो की इस उपलब्धि पर केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने इसरो के वैज्ञानिकों को बधाई दी है।

उन्होंने कहा चंद्रयान 2 का चंद्रमा की कक्षा में आसानी से प्रवेश हमारे वैज्ञानिकों के लिए एक और महत्वपूर्ण उपलब्धि है। अगले महीने चांद पर ‘प्रज्ञान’ की लैंडिंग की प्रतीक्षा कर रहे है।

इसरो की इस उपलब्धि पर पीएम नरेंद्र मोदी ने भी ISRO की टीम को बधाई दी है। पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में ISRO को बधाई देते हुए लिखा कि चंद्रयान 2 चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश कर रहा है। यह चंद्रमा की यात्रा के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है। इसकी सफलता के लिए मेरी ओर से शुभकामनाएं।

भारत का गौरव चंद्रयान-2 आज चांद का हो गया है। चंद्रयान ने सफलतापूर्वक मंगलवार को चांद की कक्षा में प्रवेश कर लिया। ये जानकारी भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल से साझा की है।7 सितंबर को चंद्रयान-2 चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा। चंद्रयान-2 को 22 जुलाई को श्रीहरिकोटा प्रक्षेपण केंद्र से रॉकेट बाहुबली के जरिए प्र‍क्षेपित किया गया था। इससे पहले 14 अगस्त को चंद्रयान-2 को ट्रांस लूनर ऑर्बिट में डाला गया था। यानी वह लंबी कक्षा जिसमें चलकर चंद्रयान-2 चांद के करीब पहुंच रहा है।

गौरतलब है कि 22 जुलाई को लॉन्च के बाद चांद के दक्षिणी ध्रुव तक पहुंचने के लिए चंद्रयान-2 की 48 दिन की यात्रा शुरू हो गई थी । लॉन्चिंग के 16.23 मिनट बाद चंद्रयान-2 पृथ्वी से करीब 170 किमी की ऊंचाई पर जीएसएलवी-एमके3 रॉकेट से अलग होकर पृथ्वी की कक्षा में चक्कर लगा रहा था। इसरो वैज्ञानिकों ने चंद्रयान-2 के लॉन्च को लेकर काफी बदलाव किए थे।

अब जब चंद्रयान-2 अपने मिशन में एक कदम और आगे बढ़ गया है। इसके बाद 11 दिन यानी 31 अगस्त तक वह चांद के चारों तरफ चक्कर लगाएगा। फिर 1 सितंबर को विक्रम लैंडर ऑर्बिटर से अलग हो जाएगा और चांद के दक्षिणी ध्रुव की तरफ यात्रा शुरू करेगा। 5 दिन की यात्रा के बाद 6 सितंबर को विक्रम लैंडर चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा। लैंडिंग के करीब 4 घंटे बाद रोवर प्रज्ञान लैंडर से निकलकर चांद की सतह पर विभिन्न प्रयोग करने के लिए उतरेगा।