कॉलेज में जन्मदिन का जश्न मनाने का प्रिंसिपल ने किया विरोध, छात्रों ने हमला करने की दी धमकी

New Delhi: राजस्थान के एक कॉलेज कैंपस में जन्मदिन का जश्न मनाने को लेकर छात्र और प्रिंसिपल आपस में भि’ड़ गए हैं। दयानंद कॉलेज की इस घटना ने एक बार फिर शिक्षक और छात्र के रिशतों पर सवाल खड़े कर दिए हैं। बदलते वक्त के साथ सालों पुराने इस सम्मान वाले रिश्तों में दरार पड़ती जा रही है। इसका ताजा उदाहरण इस घटना ने पेश किया है।

दयानंद कॉलेज के प्रिंसिपल ने कैंपस में जन्मदिन का जश्न पर रोक लगाई हुई है। छात्रों के यूनियन अध्यक्ष का जन्मदिन कैंपस में मनाया जा रहा था, इस बात की जानकारी जब प्रिंसिपल को लगी तो उन्होंने इस पर कार्र’वाई की। जन्मदिन के जश्न का वि’रोध करने पर प्रिंसिपल को यूनियन ने ध’मकी दी। प्रिंसिपल पर ह’मला करने की और ध’मकी यूनियन अध्यक्ष ने दी।

इस मामले की जांच कर रही पुलिस का कहना है कि दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ शिकायत दर्ज की है। इस संबंध में मामला दर्ज किया जाएगा और आगे की कार्र’वाई की जाएगी। वहीं इस मामले पर दयानंद कॉलेज, अजमेर के प्रिंसिपल डॉ लक्ष्मीकांत से बातचीत की गई जो कि घटना के शि’कार हुए हैं।

उन्होंने कहा कि कॉलेज कैंपस में जन्मदिन मनाने की अनुमति नहीं है। जब उन्होंने यह बात छात्रों के यूनियन अध्यक्ष सीता राम चौधरी को बताया, तो उन्होंने उनके चेहरे पर केक फेंक दिया। उनपर ह’मला किया गया और ध’मकाया गया। प्रिंसिपल ने कहा कि उन्होंने इस संदर्भ में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

आए दिन कॉलेज कैंपस में हिं’सक घटनाओं ने शिक्षा व्यवस्था और कॉलेज प्रशासन पर उंगली उठाने का काम किया है। छात्रों की शिक्षकों की प्रति बदलती मानसिकता ने समाज को इस ओर गंभीरता से सोचने पर मजबूर कर दिया है।