राजस्थान: 21 पाकिस्तानी हिन्दुओं को दी गई भारतीय नागरिकता, विस्थापित हो कर आए थे भारत

New Delhi: राजस्थान सरकार ने बुधवार को 21 पाकिस्तानी हिंदू प्रवासियों को भारतीय नागरिकता दी। उन्हें नागरिकता का प्रमाण पत्र जयपुर में जिला कलेक्ट्रेट में आयोजित एक कार्यक्रम में दिया गया। यहां संभागीय आयुक्त के. सी. वर्मा और जिला कलेक्टर जगरूप सिंह यादव ने भारतीय नागरिकता के प्रमाणपत्र उन्हें सौंपे।

गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने जुलाई में लोकसभा को सूचित किया था कि राजस्थान सरकार, और जोधपुर, जैसलमेर और जयपुर के जिला कलेक्टरों द्वारा कुल 1,310 प्रवासियों को नागरिकता दी गई थी। इनमें से सभी गैर मुस्लिम लोग थे।

जगरूप सिंह यादव ने बताया कि दो माह में 35 पाकिस्तानी विस्थापितों को भारत की नागरिकता दी गई है। उन्होंने इसे सुखद अनुभव बताया क्योंकि ये लोग पाकिस्तान से विस्थापित होने के बाद कई सालों से यहां अधूरी पहचान के साथ रह रहे थे। उन्हें सरकारी नौकरियों, योजनाओं का लाभ लेने में भी दिक्कतें आती थी।

बता दें नागरिकता संशोधन अधिनियम, जो 8 जनवरी को लोकसभा में पारित किया गया था, बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से गैर-मुस्लिमों को नागरिकता प्रदान करने का प्रयास करता है। ये नागरिकता उन गैर मुस्लिम को ही दी जाती है जो 31 दिसंबर, 2014 से पहले भारत आ चुके हैं। हालांकि, अब इस अधिनियम में काम बंद हो गया।

केंद्र सरकार पहले ही बता चुकी है कि राजस्थान के तीन जिलों – जोधपुर, जैसलमेर, और जयपुर – में छह अल्पसंख्यक समुदायों- हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन से संबंधित कानूनी प्रवासियों को पंजीकरण या प्राकृतिक प्रवासन द्वारा भारतीय नागरिकता देने की शक्ति है।