देश का मान बढ़ाया – शैलजा टीचर को टॉप थिंकर-2020 में पहला स्थान, न्यूजीलैंड PM को दूसरा

New Delhi : केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने पूरे देश का मान बढ़ाया है। उनको कोरोना काल में शानदार काम करने के लिये एक प्रसिद्ध ब्रिटिश मैगजीन ने टॉप 50 थिंकर-2020 में पहला स्थान दिया है। इसमें जगह बनाने वाली वह अकेली भारतीय महिला हैं। कभी पेशे से शिक्षक रहीं शैलजा ने पूरी दुनिया के सामने अपनी दूरदर्शिता का लोहा मनवाया है। इस सूची में न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न को दूसरे स्थान पर रखा गया है। इस मैगजीन में प्रसिद्ध समाज सेवकों, बुद्धिजीवियों को पाठकों के मतदान के आधार पर और संपादकों की पैनल की राय के आधार पर चुना गया है। इस लिस्ट को अंतिम रूप देने के लिये 20,000 से अधिक वोट डाले गये।

चौंकानेवाली बात यह भी है कि केके शैलजा इस लिस्ट में एकमात्र भारतीय महिला हैं। इस मैगजीन ने शैलजा की प्रशंसा करते हुये काफी कुछ लिखा है। मैगजीन ने माना है- दो साल पहले वर्ष 2018 में भी शैलजा ने केरल में फैले निपाह वायरस का डटकर सामना किया था। अब कोरोना में उनकी तार्किक क्षमता और काम के तरीकों ने पूरा परिदृश्य ही बदल दिया है। केरल के लोग उनकी वजह से अपने आपको महफूज मानते हैं।
केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा राजनीति में आने से पहले एक शिक्षक थीं। वे पूरे प्रदेश में खासतौर से ग्रामीण इलाकों में शैलजा टीचर के नाम से मशहूर हैं। इससे पहले भी शैलजा द्वारा कोरोना को रोकने की दिशा में किये गये प्रयासों को तारीफ मिली है। अखबार ‘द गार्जियन’ ने भी शैलजा द्वारा किये गये कामों की प्रशंसा की थी। इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र ने कोरोना महामारी की सीमाओं पर काम कर रहे लोक सेवकों को सम्मानित करने के लिये आयोजित एक कार्यक्रम में अपनी बात रखने के लिए शैलजा को आमंत्रित किया था।

मैगजीन की सूची में फ्रेंच इकोनॉमिस्ट और नोबल प्राइज वीनर एस्थर डूफलो, लेखक और कई बार बुकर प्राइज से सम्मानित किये गये हिलेरी मेंटल व पर्यावरणविद डेविड एटेनबोरो का नाम भी शामिल है। इस लिस्ट में पुरुषों के बजाय महिलाओं के नाम अधिक हैं। कुल 50 में 26 महिलाओं के नाम शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight + two =