राफेल पर लोगों को गुमराह करने के लिए राहुल गांधी देश से मांगे माफी- जे.पी नड्डा

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने राफेल मामले में कांग्रेस द्वारा दाखिल सभी समीक्षा याचिकाओं को खारिज कर दिया। कोर्ट के इस फैसले के बाद अब भाजपा के कई नेता राहुल गांधी की इस पर आलोचना कर रहे हैं। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गुरुवार को कहा कि राहुल गांधी को राफेल जेट सौदे के बारे में लोगों को गुमराह करने के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए।

नड्डा ने ट्वीट किया, “सुप्रीम कोर्ट ने राफेल पर पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी है। कोर्ट का कहना है कि राहुल गांधी को पूरा आदेश पढ़े बिना राजनीतिक टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। उन्हें भविष्य में और अधिक सावधान रहने की जरूरत है। हम आगे कोई कार्यवाही जारी नहीं रखना चाहते हैं,”।

उन्होंने गांधी की विदेश यात्राओं पर भी चुटकी लेते हुए ट्वीट किया: “सड़क से संसद तक, राहुल गांधी और उनकी पार्टी ने इस मुद्दे पर देश को गुमराह करने की पूरी कोशिश की, लेकिन अब सच्चाई सामने आई है। मेरी इच्छा है कि राहुल गांधी देश में वापस आएं और देश से माफी मांगे।”

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को 36 राफेल जेट सौदे को बरकरार रखते हुए 14 दिसंबर, 2018 को पारित राफेल मामले में अपने फैसले को चुनौती देने वाली समीक्षा याचिकाओं को खारिज कर दिया।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और केएम जोसेफ की अध्यक्षता वाली तीन-न्यायाधीशों की पीठ ने 14 दिसंबर, 2018 के फैसले की समीक्षा करने वाली याचिकाओं के एक बैच पर आदेश पारित किया। इस आदेश में फ्रांस की सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 36 राफेल जेट की खरीद को क्लीन चिट दी है।

राहुल गांधी द्वारा राफेल मामले पर कोर्ट के फैसले को गलत तरीके से पेश करने पर आज सुप्रीम कोर्ट ने गांधी को माफ कर दिया है। राफेल मामले की सुनवाई के दौरान गांधी ने कोर्ट के फैसले को गलत ढंग से पेश करते हुए कहा था कि अब सुप्रीम कोर्ट ने भी माना है कि ‘चोकीदार चोर है’। उनके इस बयान पर भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी द्वारा सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। इसी याचिका पर आज फैसला सुनाया गया है। हालांकि कोर्ट ने कहा है कि गांधी को आगे अपने बयानों को लेकर सावधान रहने की जरूरत है।