राहत इंदौरी बोले – रातभर पूछता रहा वह घर किसका है, जहां डॉक्टरों पर थूका गया, ताकि उनसे कहूं…

New Delhi : इंदौर के टाटपट्टी बाखल में बुधवार स्वास्थ्य विभाग की टीम पर लोगों के पथराव से मशहूर शायर राहत इंदौरी दर्द में हैं। उन्हें भीड़ का ये कदम जायज नहीं लगता है। राहत इंदौरी कहते हैं – कल रात 12 बजे तक मैं दोस्तों से फोन पर पूछता रहा कि वह घर किसका है, जहां डॉक्टरों पर थूका गया है, ताकि मैं उनके पैर पकड़कर माथा रगड़कर उनसे कहूं कि खुद पर, अपनी बिरादरी, अपने मुल्क व इंसानियत पर रहम खाएं। यह सियासी झगड़ा नहीं, बल्कि आसमानी कहर है, जिसका मुकाबला हम मिलकर नहीं करेंगे तो हार जाएंगे। ज्यादा अफसोस मुझे इसलिए हो रहा है कि रानीपुरा मेरा अजीज मोहल्ला है। ‘अलिफ’ से ‘ये’ तक मैंने वहीं सीखा है। उस्ताद के साथ मेरी बैठकें वहीं हुईं। मैं बुजुर्गों ही नहीं, बच्चों के आगे भी दामन फैलाकर भीख मांग रहा हूं कि दुनिया पर रहम करें। डॉक्टरों का सहयोग करें। इस आसमानी बला को फसाद का नाम न दें। इंसानी बिरादरी खत्म हो जाएगी। जिंदगी अल्लाह की दी हुई सबसे कीमती नेमत है। इस तरह कुल्लियों में, गालियों में, मवालियों की तरह इसे गुजारेंगे तो तारीख और खासकर इंदौर की तारीख जहां सिर्फ मोहब्बतों की फसलें उपजी हैं, वह तुम्हें कभी माफ नहीं करेगी।

🙏 गुज़ारिश …

Posted by Dr. Rahat Indori on Thursday, April 2, 2020

🙏 गुज़ारिश …

Posted by Dr. Rahat Indori on Thursday, April 2, 2020

🙏 गुज़ारिश …

Posted by Dr. Rahat Indori on Thursday, April 2, 2020

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + 1 =