पाकिस्तान सीमा से लगते क्षेत्रों में NCC प्रशिक्षण होगा अनिवार्य, सेना में बढ़ेगी युवाओं की भागीदारी

New Delhi: पंजाब सरकार ने फैसला लिया है कि पाकिस्तान के साथ अंतर्राष्ट्रीय सीमा के करीब स्थित क्षेत्रों में सभी सरकारी स्कूलों और कॉलेजों में अनिवार्य राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को एक उच्च-स्तरीय बैठक में इस संबंध में निर्णय लिया।

इसमें कहा गया कि इससे युवाओं को सशस्त्र और अर्धसैनिक बलों में रोजगार प्राप्त करने में मदद मिलेगी। धीरे-धीरे राज्य के सभी स्कूलों में एनसीसी प्रशिक्षण अनिवार्य किया जाएगा। अमरिंदर सिंह ने सरकारी स्कूलों में नौवीं और ग्यारहवीं कक्षा के सभी छात्रों को अनिवार्य एनसीसी प्रशिक्षण देने की घोषणा की। इसके साथ ही गुरदासपुर, तरनतारन और अमृतसर के सीमावर्ती जिलों के सभी कॉलेजों में प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्रों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इन जिलों में 365 हाई स्कूल और 365 सीनियर सेकेंडरी स्कूल हैं।

एक अन्य महत्वपूर्ण फैसले में, मुख्यमंत्री ने सरकारी विभागों में रिक्तियों को प्राथमिकता के आधार पर भरने की घोषणा भी की है। ऐसा करने के लिए राज्य भर में महत्वपूर्ण रिक्तियों की सूची तैयार करने के लिए 10 दिन की समय सीमा दी गई है। शिक्षा विभाग जैसे सभी विभागों में ऑनलाइन स्थानांतरण नीति को विस्तारित करने का निर्देश भी दिया गए हैं। मुख्यमंत्री ने भर्ती और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करने के लिए बैठक की अध्यक्षता की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न विभागों में लगभग 29,000 रिक्तियों को पहले चरण में भरा जा सकता है। अगले वर्ष दूसरे चरण में 15,000 पदों को भरा जा सकता है। तबादलों के मुद्दे पर, मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि ऑनलाइन स्थानांतरण नीति को शिक्षकों के लिए सफलतापूर्वक लागू किया गया है। सभी सरकारी विभागों में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए इसी नीति को अनिवार्य किया जाएगा।