विरोध – रूस-चीन के साथ 23 जून को प्रस्तावित बैठक का बहिष्कार कर सकता है भारत

New Delhi : लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर भारत और चीनी सैनिकों में झड़प को लेकर उपजे हालात के बीच भारत 23 जून को प्रस्तावित रूस-इंडिया-चीन की वर्चुअल बैठक का बहिष्कार कर सकता है। इस मामले से जुड़े लोगों ने बुधवार को यह जानकारी दी।
लद्दाख में करीब डेढ़ महीने से चली आ रही तनातनी सोमवार रात खराब स्थिति में पहुंच गई। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होने जा रही RIC बैठक के अजेंडे में सीमा तनातनी शामिल नहीं है। लेकिन इस मामले से जुड़े लोगों ने कहा कि चीन के साथ उपजे तनाव के बाद इसकी संभावना है कि भारत इस बैठक में हिस्सा नहीं लेगा।
बैठक की अभी तक आधिकारिक रूप से घोषणा नहीं की गई है। पहले यह मार्च में होनी थी लेकिन कोरोना वायरस महामारी की वजह से टाल दी गई थी। रूस ने हाल ही में पहल करते हुए 22 जून को वर्चुअल मीटिंग फिक्स की थी। लेकिन इसे फिर 23 जून के लिए निर्धारित किया गया।
उम्मीद की जा रही थी कि बैठक में वैश्विक महामारी के मद्देनजर सहयोग बढ़ाने पर बातचीत होगी। इस सप्ताह बैठक के लिए अजेंडा तैयार होना था। संभावना थी कि अफगानिस्तान मुद्दे के अलावा क्षेत्रीय कनेक्टिविटी प्रॉजेक्ट्स जैसे नॉर्थ साउथ ट्रांसपोर्ट कॉरिडोर पर भी बात होती, जिसमें भारत, रूस और ईरान शामिल हैं।
अधिकारी ने कहा- पिछले दो दिनों के घटनाक्रम से माहौल खराब हो गया है और भारतीय भागीदारी की संभावना कम दिख रही है। हालांकि, उन्होंने इस बात की संभावना से भी इनकार नहीं किया कि रूस आखिरी समय में बैठक में शामिल होने को लेकर जोर डाल सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

− one = seven