महाराष्ट्र में कोरोना पर राजनीति हावी : कोरोना से मरनेवाले के शवों को जलाने का आदेश वापस

New Delhi : मुंबई महानगरपालिका ने कोरोना वायरस के कारण मारे गए लोगों के शवों को जलाने का आदेश वापस ले लिया है। पहले बीएमसी ने अपने आदेश में कहा था कि अगर किसी मरीज की मृत्यु कोरोना वायरस के कारण होती है तो चाहे वह किसी भी धर्म या समुदाय का हो, उसके शव को जलाया जाएगा।
लेकिन राजनीतिक दबाव के बाद इस आदेश को वापस ले लिया गया। इसकी समीक्षा किए जाने के बाद एक नया आदेश जारी हुआ। इसमें कहा गया कि अगर कोई शव को दफनाना चाहता है तो उसे पुलिस की मौजूदगी में सभी जरूरी सावधानियां बरतनी होंगी। अगर उसने ऐसा नहीं किया तो उस शख्स के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
पिछले आदेश में मुंबई महानगरपालिका ने यह भी कहा था कि अगर कोई शव को दफनाना चाहता है तो वह मुंबई के क्षेत्राधिकार से बाहर कर सकता है। जैसे ही बीएमसी ने पहला आदेश जारी किया तो राजनीतिक पार्टियों की ओर से इसे तुरंत वापस लिए जाने का दबाव बनाए जाने लगा। हालांकि नया आदेश जारी होने के बाद महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने एक ट्वीट किया – मैंने बीएमसी कमिश्नर प्रवीण परदेशी से सर्कुलर के बारे में बात की है. उन्होंने कहा कि पिछले सर्कुलर को रद्द कर दिया गया है। हालांकि पिछले आदेश पर बीएमसी ने तर्क दिया था कि जिन भी परंपराओं में शवों को छूना शामिल है, उससे बचना होगा।
कोरोना वायरस का कहर देश में बढ़ता ही जा रहा है। संक्रमित मरीजों की तादाद 1400 के करीब जा पहुंची है. वहीं अब तक 40 लोग इस मौत के वायरस के कारण दम तोड़ चुके हैं। दुनिया भर में 7 लाख 86 हजार से ज्यादा लोग इस बीमारी की चपेट में हैं. वहीं 37, 820 लोगों की मौत यह वायरस ले चुका है।
हालांकि भारत में यह वायरस तीसरे चरण में नहीं पहुंचा है। सोमवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया था कि कोरोना वायरस का प्रकोप अभी लोकल ट्रांसमिशन स्टेज यानी दूसरे चरण में ही है। मंत्रालय ने साफ किया कि कोरोना भारत में अभी तीसरे चरण यानी कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज में नहीं पहुंचा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के कारण चार लोगों की मौत हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifty four − forty seven =