मध्यप्रदेश : कुत्तों के तबादले को लेकर डॉग हैंडलर्स पहुंचे पुलिस मुख्यालय, ट्रांसफर रोकने की लगाई गुहार

New Delhi: मध्यप्रदेश में कुत्तों के तबादले ने एक नया मोड़ ले लिया है। एक तरफ जहां इस पर राजनीतिक बहस थमने का नाम नहीं ले रही है। वहीं दूसरी ओर तबादले को लेकर डॉग हैंडलर्स परेशान हैं। इस सिलसिले में अब ये पुलिस मुख्यालय पहुंच गए हैं। मुख्यालय में आवेदन देकर इन्होंने तबादले को रोकने का गुजारिश की है। उनका कहना है कि नए माहौल में कुत्तों को ढलने में समय लगेगा।

नया वातावरण कुत्तों के लिए अकसर परेशानियां खड़ा कर देते हैं। ऐसी हालत में उनके बीमार होने की आशंकाओं से इनकार नहीं किया जा सकता है। कभी-कभी स्थिति नियंत्रण से भी बाहर हो जाती है। अपनी दलील में डॉग हैंडलर्स ने आने वाली सारी समस्याओं का जिक्र छेड़ दिया है। यहां तक उनका यह भी कहना है कि कुत्तों की सूंघने की क्षमता भी प्रभावित होगी।

तबादले अगर जरूरी है तो आस-पास के जिलों में हो जहां के माहौल में घुलने-मिलने में ज्यादा परेशानी न होती हो। ऐसा वातावरण जिससे कुत्ते परिचित हों। इससे पहले मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने सूची जारी की थी कि कुत्तों के साथ-साथ उनके हैंडलर्स का भी तबादला किया जाएगा। आदेश दिया गया था कि कुल 46 पुलिस डॉग हैंडलर्स का राज्य के विभिन्न जिलों में तबादला किया जाएगा।

23 बटालियन डॉग स्क्वायड के ट्रैकर, स्निफर और नार्को नस्ल के कुत्ते इस तबादले में शामिल थे। इन सारे डॉग हैंडलर्स को अपने कुत्तों के साथ नई पोस्टिंग दे दी गई है। भोपाल में मुख्यमंत्री के घर में नई पोस्टिंग के तहत तीन स्नाइपर को रखा गया है। छिंदवाड़ा, सतना और बैतूल से एक-एक कुत्ते को मंगाया गया है।

मध्यप्रदेश : अधिकारियों के बाद अब कुत्तों के ट्रांसफर का आया नंबर