एक देश एक चुनाव सहित कई मुद्दों पर बैठक हुयी,PM बोले-सुझावों के लिए सभी नेताओं का शुक्रिया

NEW DELHI: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक देश एक चुनाव सहित कई अन्य मुद्दों पर आयोजित बैठक में शामिल होने वाले सभी नेताओं को धन्यवाद कहा है। प्रधानमंत्री ने कहा है कि इस बैठक में कई राष्ट्रीय महत्व के विषयों पर चर्चा हुयी है। प्रधानमंत्री ने इसको लेकर एक के बाद एक दो ट्वीट किये।

प्रधानमंत्री ने कहा, “विभिन्न राजनितिक दलों के अध्यक्षों के साथ चर्चा शानदार रही। विभिन्न राष्ट्रीय महत्व के विषयों पर चर्चा हुयी। मैं बैठक में शामिल होने वाले सभी नेताओं का उनके अहम सुझावों के लिए धन्यवाद व्यक्त करता हूं।”

उन्होंने आगे कहा कि इस बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुयी। उन्होंने कहा, “संसद की कार्यवाही सुधारने, एक देश एक चुनाव, न्यू इंडिया विज़न, बापू की 150वीं जयंती सहित कई मुद्दों पर चर्चा हुयी।”

बता दें कि प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित इस बैठक में 21 दलों के प्रमुख शामिल हुए। 40 दलों के प्रमुखों को इस कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता दिया गया था। राजनाथ सिंह ने बैठक समाप्त होने पर इसकी जानकारी दी।

राजनाथ सिंह ने बैठक के बाद कहा कि इस मुद्दे पर ज्यादातर राजनीतिक पार्टियों की सहमति है। उन्होंने कहा कि सीपीएम और सीपीआई इस मुद्दे पर अलग राय रखती है लेकिन वो भी इससे पूरी तरह असहमति नहीं रखती बस इसके लागू करने की तरीके पर उन्हें एतराज है।

गौरतलब है कि एक देश एक चुनाव पर सभी पार्टियों के बीच मतभेद है और नजदीकी भविष्य में इसके लागू होने की कोई सम्भावना मुश्किल ही नज़र आ रही है। खुद पार्टियों के भीतर भी इसको लेकर एक राय नहीं है। कांग्रेस के मुंबई अध्यक्ष ने इस विचार का समर्थन किया है जबकि कांग्रेस आलाकमान इससे अलग राय रखता है। वहीँ सीपीआईएम के महासचिव सीताराम येचुरी ने इस विचार को लोकतंत्र के मूल ढाँचे के खिलाफ बताया है।

क्या है एक राष्ट्र एक चुनाव ?
एक राष्ट्र एक चुनाव से आशय है देश में विधानसभा और लोकसभा चुनाव एक साथ आयोजित कराने को लेकर। दरअसल 1952 से लेकर 1967 तक देश में सारे चुनाव एक साथ ही होते थे, लेकिन 1967 के बाद कई सारी सरकारें बर्खास्त की जाने लगीं। यही कारण है कि लोकसभा और विधानसभा चुनावों के बीच समय का फासला बढ़ता गया।