अब यहां भी पीएम ने दिखाई विकास की राह, बोले-बच्चों से लेकर किसान सभी को सरकार देगी ख़ास इंतजाम

New Delhi: नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 75वीं वर्षगांठ पर पीएम मोदी ने यहां साल 2004 की सुनामी में जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि देने के साथ ही एक बड़ी जनसभा को संबोधित किया। साथ ही पीएम ने अंडमान-निकोबार की सेल्यूलर जेल के का नजारा भी लिया। इस ख़ास दौरे पर अंडमान पहुंचे मोदी ने बड़ा एलान करते हुए यहां के 3 प्रसिद्ध द्वीपों के नाम बदलने का एलान भी किया। वहीं पीएम ने यहां की जनता को भी विकास की राह दिखाई है।

 

पीएम मोदी ने दिखाई विकास की राह

आज पीएम मोदी अंडमान निकोबार पहुंचे जहां उन्होंने जनता को रैली संबोधन करने के साथ ही कई ख़ास सौगात भी दी। यह दौरा बेहद खास था क्योंकि आज नेताजी की 75वीं वर्षगांठ थी। पीएम मोदी ने कहा कि पूरे देश में विकास की पंचधारा, जिसमें बच्चों को पढ़ाई, युवा को कमाई, बुज़ुर्गों को दवाई, किसान को सिंचाई और जन-जन की सुनवाई शामिल है। सभी को सुनिश्चित करने के लिए सरकार निरंतर ईमानदारी से प्रयास कर रही है। पीएम ने जनता को संबोधित करते हुए कहा- अब हैवलॉक द्वीप को स्वराज द्वीप के नाम से जाना जाएगा, जबकि नील द्वीप को शहीद द्वीप के नाम से जाना जाएगा। इसके अलावा रॉस द्वीप को नेताजी सुभाष चंद्र द्वीप के नाम से जाना जाएगा। ऐसे में नाम बदलने का सिलसिला यहां पर भी देखने को मिला और यह आगे भी जारी रहने वाला हैं।

पोर्ट ब्लेयर को मिली ख़ास सौगात

पीएम मोदी अंडमान पहुंचे और उन्होंने यहां पर जनता को कई तोहफे दिए। पोर्ट ब्लेयर में पीएम मोदी ने कहा, ‘यहां बिजली और पानी की जरूरतों को पूरा करने के लिए अहम प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास और लोकार्पण किया गया है। अगले 20 साल के लिए पानी की समस्या न हो, इसके लिए धानीकारी बांध की ऊंचाई बढ़ाई जा रही है। बीते 6 महीने में ही यहां 7 मेगावॉट के सोलर पावर प्लांट्स को मंजूरी दी जा चुकी है। नेताजी की 75वीं वर्षगांठ पर उन्होंने कहा कि जब आजादी ने नायकों की बात आती है, तो नेताजी का नाम हमें गौरव और नई ऊर्जा से भर देता है।