सज्जन कुमार की सजा पर बोले मोदी, 4 साल पहले किसी ने सोचा नहीं था कि कांग्रेस नेता को सजा मिलेगी

New Delhi: 1984 के सिख विरोधी दंगों के एक मामले में दिल्ली हाईकोर्ट की डबल बेंच ने निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को दोषी करार दिया। सज्जन कुमार को उम्रकैद की सजा और पांच लाख रुपए का जुर्माना लगाया। हाईकोर्ट के इस फैसले पर पीएम मोदी ने अपना बयान दिया। दरअसल, एक टीवी इंटरव्यू के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि चार साल पहले, किसी ने सोचा भी नहीं था कि 1984 के सिख नरसंहार मामले में कांग्रेस नेता को सजा मिलेगी और पीड़ितों को इंसाफ मिलेगा।

दोषी करार दिए जाने के सवालों पर कांग्रेस नेता सज्जन कुमार ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया और इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की बात कही। वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सज्जन कुमार को दोषी करार दिए जाने पर कहा कि सज्जन कुमार के खिलाफ कोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं, आखिरकार 34 साल बाद सिख समुदाय को कुछ इंसाफ मिला। उम्मीद है कि इसमें शामिल अन्य बड़े नेता भी दंडित होंगे, और इसी तरह 2002 के गुजरात दंगों तथा मुज़फ़्फ़रनगर दंगों के दोषी भी सज़ा पाएंगे।

kalyan Maharashtra

 

जब इस मामले को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि मैनें दंगों पर अपनी बात पहले की स्पष्ट कर दी हैं, 1984 दंगे में कांग्रेस शामिल नहीं थी। दरअसल, इसी साल के अगस्त के महीने में अपने ब्रिटेन के दो दिवसीय यात्रा पर राहुल गांधी ने एक सभा में था कि यह घटना त्रासदी थी और बहुत दुखद अनुभव था, लेकिन उन्होंने इससे असहमति जताई कि इसमें कांग्रेस शामिल थी।

उन्होंने कहा था कि मुझे लगता हैं कि किसी के भी खिलाफ कोई भी हिंसा गलत हैं। भारत में कानूनी प्रक्रिया चल रही हैं, लेकिन जहां तक मैं मानता हूं उस समय कुछ भी गलत किया गया तो उसे सजा मिलनी चाहिए और मैं इसका 100 फीसदी समर्थन करता हूं। उन्होंने कहा कि मेरे मन में कोई भ्रम नहीं हैं। यह एक त्रासदी थी। आप कहते हैं कि उसमें कांग्रेस पार्टी शामिल थी, मैं इससे सहमत नहीं हूं।