PM Modi की हुंकार- जिन्होंने भारत माता को आंख दिखाई उन्हें जांबाज जवानों ने सबक सिखा दिया

New Delhi : भारत-चीन सीमा पर स्थिति के संबंध में चर्चा के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी ने चीन को दो टूक संदेश दे दिया है कि भारत शांति और दोस्ती चाहता है, लेकिन देश के स्वाभिमान की रक्षा सबसे पहले है। पीएम मोदी ने एक तरफ कहा कि चीन ने जो किया है उससे देश आहत है, लेकिन आज हमारे पास वह क्षमता है कि कोई एक इंच जमीन की तरफ कोई आंख नहीं उठा सकता है। पीएम मोदी ने कहा कि पूरा देश सैनिकों के साथ चट्टान की तरह खड़ा है।

पीएम मोदी ने कहा कि चीन ने ना तो हमारी सीमा में घुसपैठ की है, ना ही उन्होंने किसी पोस्ट को कब्जे में लिया है। हमारे जवानों ने जिन्होंने भारत माता को आंख दिखाई उन्हें सबक सिखा दिया। मोदी ने कहा- हमारी सेना देश की रक्षा के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है। हमारी सेना जल, थल, नभ में देश की रक्षा के लिए जो करना है कर रही है। हमारी एक इंच जमीन पर कोई भी आंख उठाकर नहीं देख सकता है। हमने सेना को उचित कदम उठाने की छूट दी है। हमने चीन को अपनी बात स्पष्ट कर दी है।
पीएम मोदी ने कहा कि भारत के सैनिकों के पास एक साथ कई मोर्चे पर पर जाने की क्षमता है। अब तक जिन्हें सवाल नहीं पूछा जाता था या रोका नहीं जाता था, अब हमारे जवा उन्हें रोकते हैं और एक से अधिक सेक्टर में चेतावनी देते हैं। जिसकी वजह से कई बार तनाव हो जाता है। पीएम ने कहा- हाल में तैयार किए गए इन्फ्रास्ट्रक्चर से एलएसी पर पट्रोलिंग क्षमता बढ़ गई है। पहले जिन इलाकों की निगरानी नहीं होती थी। वहां भी अब हमारे जवान निगरानी और जवाब देने में सक्षम हैं। बेहतर इन्फ्रास्ट्रक्चर, सामानों और जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति से दुर्गम इलाके पहले के मुकाबले आसान हो गए हैं।
पीएम मोदी ने सैन्य क्षमता में विस्तार को लेकर जानकारी देते हुए कहा- पिछले कुछ सालों में हमने सीमा को सुरक्षित करने के लिए इन्फ्रास्ट्रक्चर डिवेलपमेंट को महत्व दिया। सशस्त्र बलों की जरूरतों, चाहे फाइटर प्लेन हो, अडवांस हेलीकॉप्टर्स, मिसाइल डिफेंस सिस्टम, को महत्व दिया गया है।
पीएम मोदी ने कहा कि देश को हमारे सैनिकों में बहुत अधिक विश्वास है। मैं अपने सैनिकों को भरोसा दिलाता हूं कि पूरा देश उनके साथ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighty nine + = ninety six