खुल रही व्यवस्था की पोल-अस्पताल में लगातार जा रही है बिजली,बुखार में गर्मी से रो रहे हैं बच्चे

New Delhi: मुजफ्फरपुर में Chamki बुखार (Acute Encephalitis Syndrome) कह’र तो बरसा ही रहा है लेकिन इसके साथ व्यवस्था की बद’इंतजामी भी देखने के लिए मिल रही है।

मरीजों के परिजनों ने लगातार बदइं’तजामी की शिकायत की है।

मुज़फ़्फ़रपुर के श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) में मरीजों और उनके परिजनों ने लगातार बिजली कटौती की शिका’यत की।

मरीजों के परिजनों का कहना है -‘यहां अक्सर बिजली कटौती होती है। कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं है, हम हाथ से चलने वाले पंखे का उपयोग करने के लिए मजबूर हो रहे हैं। बच्चे गर्मी के कारण रो रहे हैं।”

चमकी का क’हर:बुखार से तड़’पते बच्चों को नहीं किया जा रहा अस्पताल में भर्ती,नहीं मिल रही कोई सुविधा

चमकी बुखार से पूरे बिहार के लोग त्र’स्त हैं। अस्पतालों में मरीजों की लाइन लगी पड़ी है। ऐसे में पीड़ि’तों के परिजनों ने अस्पताल पर बदइं’तजामी का आ’रोप लगाया है।

मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) में अपने बच्चों के साथ आए लोगों का कहना है कि उनके बच्चे बुखार से पी’ड़ित हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती नहीं किया जा रहा है। उन्होंने यह भी आरो’प लगाया कि उन्हें कभी कोई ORS नहीं दिया गया था।

परिजनों ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा- ‘किसी ने हमें ORS के बारे में कुछ भी नहीं बताया  है। हम AES के लक्षणों को नहीं जानते हैं। हमारे बच्चे 4-5 दिनों से बुखार से जल रहे हैं। डॉक्टर ने हमें उनके लिए दवाइयाँ लाने के लिए कहा है। डॉक्टरों का कहना है कि अगर बुखार दवा के बाद नहीं जाता है तब वो हमारे बच्चों को भर्ती करेंगे। हमारे पास पैसे भी नहीं है।’

हालातों को ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने बिहार के विभिन्न जिलों से डॉक्टरों की तैनाती की है लेकिन बुनियादी सुविधाओं को लेकर पी’ड़ितों के परिजनों का ये बयान व्यवस्था की पोल खोल रहा है।

बिहार के मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम(AES) से बच्चों की मौ’त का आंकड़ा रुकने का नाम नहीं ले रहा। इसी के मद्देनज़र बिहार के विभिन्न जिलों से 12 अतिरिक्त डॉक्टर मुजफ्फरपुर के SKMC अस्पताल रवाना किये गए हैं। इन डॉक्टरों में 4 दरभंगा, 4 नालंदा और 4 पटना से भेजे गए हैं। समाचार एजेंसी एएनआई ने ट्वीट कर जानकारी दी।

एएनआई ने ट्वीट किया, “बिहार के मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम के प्र’कोप के बाद विभिन्न जिलों के 12 डॉक्टर श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल भेजे गए हैं। इनमें दरभंगा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल से 4, नालंदा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल से 4 और पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल से 4 डॉक्टर भेजे गए हैं।”