अगस्ता वेस्टलैंड मामला: कोर्ट ने मिशेल की जमानत पर फैसला रखा सुरक्षित, 22 दिसंबर को होगी सुनवाई

New Delhi: अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में बिचौलिये की भूमिका निभाने वाले क्रिश्चियन मिशेल की जमानत याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया हैं। अब मामले की सुनवाई 22 दिसंबर को होगी। आपको बता दें कि कोर्ट में क्रिश्चियन मिशेल के वकील अल्जो के जोसेफ ने दावा किया कि मिशेल जांच में सहायता कर रहा है। वकील अल्जो के जोसेफ ने कोर्ट में कहा कि वह (क्रिश्चियन मिशेल) कमज़ोर हो गया है, क्योंकि सीबीआई के अनुरोध पर वह दुबई में भी पांच महीने तक हिरासत में रहा था। हम ज़मानत की किसी भी शर्त के लिए तैयार हैं। आप अन्य आरोपियों को पहले ही ज़मानत दे चुके हैं।

आपको बता दें कि पिछली सुनवाई में जमानत याचिका पर जवाब देने के लिए सीबीआई ने वक्त मांगा था। अब तक सीबीआई को मिशेल की 14 दिनों की रिमांड मिल चुकी हैं। कोर्ट में सीबीआई ने कहा था कि मिशेल की कुछ लिखावट मिसी हैं, जो कोड में हैं उसे डीकोड करना हैं और मिशेल को मुंबई भी लेकर जाना हैं। वहीं मिशेल के वकील ने कोर्ट में कहा था कि मिशेल पर इंटरपोल का नोटिस हटाया जाए।

Patiala House Court

कोर्ट को जानकारी देते हुए सीबीआई के वकील ने बताया था कि हमें इस बात की भी जानकारी मिली है कि मिशेल ने किसी को घूस दी है, लेकिन हम इसकी जानकारी अभी नहीं दे सकते हैं। आपको बता दे कि 2010 में भारतीय वायुसेना के लिए 12 वीवीआईपी हेलिकॉप्टर खरीदने के लिए एंग्लो-इतावली कंपनी अगस्ता-वेस्टलैंड और भारत सरकार के बीच कॉन्ट्रेक्ट हुआ था। लेकिन जनवरी 2014 में कॉन्ट्रेक्ट की शर्ते पूरी न होने पर भारत सरकार ने 3600 करोड़ रुपये के करार को रद्द कर दिया। लेकिन उस वक्त भारक 30 फीसदी कॉन्ट्रेक्ट का भुगतान कर चुकी थी और 3 हेलिकॉप्टरों के भुगतान की प्रक्रिया चल रही थी।

रक्षा मंत्रालय ने इस मामले में सीबीआई जांच के आदेश दिए। जांच में कई पूर्व वायुसेना प्रमुख और अधिकारियों के नाम सामने आए। इसके अलावा, इटली के एयरोस्पेस फिनमेकानिका के पूर्व मुखिया ओरसी को भी गिरफ्तार किया गया, जिसे कोर्ट ने दोषी करार दिया। इस जांच में सौदे में कथित बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल जेम्स का भी नाम सामने आया। जिसके बाद मिशेल जेम्स को भारत लाया गया और 2015 में कोर्ट ने मिशेल जेम्स के खिलाफ गैर जमानती गिरफ्तारी वांरट जारी कर दिया।