करतारपुर कॉरिडोर : पाक ने तीर्थयात्रियों से 20 अमेरिकी डॉलर सेवा शुल्क लेने की माँग की

New Delhi : पाकिस्तान ने गुरूवार को सिखों के धार्मिक स्थल करतारपुर साहिब जाने लिए भारतीय श्रद्धालुओं से सेवाकर लेने की घोषणा की है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ मोहम्मद फैसल ने कहा कि पाकिस्तान करतारपुर जाने वाले श्रद्धालुओं से प्रतिव्यक्ति 20 अमेरिकी डॉलर लगभग डेढ़ हजार भारतीय रूपये सेवा शुल्क लेने की घोषणा की है। साथ ही पाकिस्तान ने यह भी स्पष्ट किया है कि यह शुल्क प्रवेश के लिए नहीं है। यह शुल्क मात्र सेवाकर कर के रूप में लिया जायेगा।

बता दें जम्मू कश्मीर को लेकर जारी तनाव के बीच करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत पाकिस्तान के बीच 4 सितंबर को तीसरी बैठक आयोजित की गई थी। जिसमें कुछ मुद्दों पर कुछ मतभेदों के कारण करतारपुर कॉरिडोर समझौते को अंतिम रूप नहीं दिया जा सका था।

पाकिस्तान ने इस बैठक में तीर्थयात्रियों को गुरुद्वारा करतारपुर साहिब जाने की अनुमति देने के लिए सेवा शुल्क लेने की शर्त रखी थी। जिसको लेकर भारत अपनी असहमति जता चुका है। इसके अलावा पाकिस्तान ने गुरुद्वारा परिसर में भारतीय वाणिज्यदूत या प्रोटोकॉल अधिकारियों की उपस्थिति को अनुमति देने से मना कर दिया था। भारत ने पाकिस्तान से आग्रह किया है कि वह गुरुद्वारा परिसर में भारतीय वाणिज्यदूत को अनुमति देने पर पुनर्विचार करे।

बता दें कि भारत की तरफ से यह प्रस्ताव रखा गया था। इस पर भारत सरकार का कहना है कि श्री करतारपुर साहिब के दर्शनों में कोई समस्या आती है तो लोग भारतीय कॉन्सुलेट से संपर्क कर सकेंगे। इसके साथ ही दोनों देशों के बीच बन रहे पहले वीजा फ्री रास्ते पर महत्वपूर्ण फैसले होंगे।