जाधव के बाद एक और भारतीय को पाकिस्तान ने किया गि’रफ्तार, जासूसी का लगाया आरो’प

New Delhi: पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की पुलिस ने दावा किया है कि डेरा गाजी खान शहर में उन्होंने एक “भारतीय जासूस” को गि’रफ्तार किया है। पुलिस का हवाला देते हुए, स्थानीय मीडिया ने बताया कि उन्होंने एक भारतीय नागरिक को गिर’फ्तार किया। जिसने भारतीय जासूस होना स्वीकार किया है। पाकिस्तान में जासूसी करने पर मौ’त की स’जा का प्रावधान है।

पुलिस ने कहा कि राजू लक्ष्मण के रूप में पहचाने गए आ’रोपी को बुधवार को लाहौर से लगभग 400 किलोमीटर दूर डेरा गाजी खान जिले के राखी गज इलाके से गि’रफ्तार किया गया। उसे आगे की जांच के लिए एक अज्ञात स्थान पर स्थानांतरित कर दिया गया। पाकिस्तान पुलिस ने कहा कि राजू लक्ष्मण को बलूचिस्तान प्रांत से शहर में प्रवेश करने के दौरान गि’रफ्तार किया गया था, उसी प्रांत से जहां पाकिस्तान ने दावा किया था कि उसने भारतीय राष्ट्रीय कुलभूषण जाधव को गि’रफ्तार किया था।

भारतीय नौसेना के एक सेवानिवृत्त अधिकारी, 49 वर्षीय जाधव को अप्रैल 2017 में एक पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने “जासूसी और आ’तंकवाद” के आ’रोप में मौत’ की सजा सुनाई थी। जिसके बाद भारत ने अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) को अपनी मृ’त्यु पर रोक लगाने की मांग की थी।आईसीजे ने पाकिस्तान को पिछले महीने जाधव की स’जा पर पुनर्विचार करने का आदेश दिया और साथ ही बिना किसी देरी के जाधव को कांसुलर एक्सेस देने का भी आदेश दिया गया था।

पाकिस्तान का दावा है कि उसके सुरक्षा बलों ने जाधव को 3 मार्च, 2016 को ईरान से कथित तौर पर घुसने के बाद बलूचिस्तान प्रांत से गि’रफ्तार किया था। हालांकि, भारत का कहना है कि जाधव को ईरान से अगवा किया गया था, जहां नौसेना से सेवानिवृत्त होने के बाद जाधव व्यापार के सिलसिले में गए थे।