दिल्ली-एनसीआर में हर तीन में से एक व्यक्ति स्मों‘किग की ल‘त का शि‘कार, ये मानसिक बीमारी है जिम्मेदार

नई दिल्लीः हाल ही हुए एक सर्वे में चिं‘ताजनक आंकडें सामने आये हैं इन आंकडों के अनुसार दिल्ली-एनसीआर में 15 से 50 वर्ष की आयु में हर तीन व्यक्तियों में से एक व्यक्ति स्मो‘किंग की ल‘त का शि‘कार है। उन में करीबन आधे लोग 20 से 30 वर्ष की आयु के हैं।

Understanding Smoking Attitudes in Youth नामक ये सर्वे Gurgaon आधारित Aviss Health Foundation ने किया। इस सर्वे में उन्होंने पाया कि कई युवा काम से संबंधित त‘नाव से निपटने के लिए स्मोंकिग करते हैं। 1,400 प्रतिभागियों में से 56 प्रतिशत ऐसा मानते हैं कि स्मों‘किग ने उन्हें त‘नाव से राहत पाने में मदद की। उनमें से 55 प्रतिशन ने ये माना कि वो इसके बुरे प्रभावों के बारे में जानते हैं।

इस अध्ययन का नेतृत्व करने वाले डॉ हिमांशु गर्ग ने कहा कि ये तथ्य कि पढे़ लिखे युवा स्मों‘किग कर रहे हैं सिर्फ इसलिए ताकि वो त‘नाव से सामना कर सके, आउटरीच प्रोग्रामों में ध्यान की कमी के बारे में बताता है।

भारत दुनिया के उन देशों में शामिल है जो तं‘बाकू की ल‘त की वजह से उच्च मृ‘त्यु दर और इससे होने वाले रोगों के बोझ के तले दबा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार भारत में दुनिया के 12 प्रतिशत तंबाकू रहते हैं। डॉ हिमांशु गर्ग ने कहा कि इसकी ल‘त की प्रकृति और इससे होने वाले बुरे प्रभावों को जानने के बावजूद भी बहुत सारे युवा आज इसके प्र‘लोभन के शि‘कार हैं।