कुछ ही मिनट में पत्थर बन गए इस शहर के 20 हजार लोग, कुदरत के कहर ने ऐसे ली सबकी जान

कुछ ही मिनट में पत्थर बन गए इस शहर के 20 हजार लोग, कुदरत के कहर ने ऐसे ली सबकी जान

By: Rohit Solanki
May 16, 22:05
0
New Delhi: इंसान कितना भी ताकतवर हो जाए, लेकिन हकीकत ये है कि वो आज भी प्रकृति के आगे बेबस है। भूंकप हो या सूनामी, प्रकृति के आगे किसी की भी नहीं चलती।

सालों पहले एक ऐसी ही घटना घटी थी, जिसने देखते ही देखते एक शहर में 20 हजार लोगों को चंद मिनटों में मौत की नींद सुला दिया था। इटली के एक शहर में घटी इस घटना को याद कर लोग आज भी सिहर उठते हैं।

आज भी देखे जा सकते हैं इस शहर में मौत के उस मंजर के अवशेष

ये घटना 79 ई. की है, जब पॉम्पी इटली और रोमन साम्राज्य का प्रसिद्ध व समृद्ध शहर था।  ये शहर पूरे रोम का सबसे शानदार और प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भी था, लेकिन इस शहर की त्रासदी दिल दहला देने वाली है। इस शहर को पल भर में ज्वालामुखी ने निगल लिया था। 79 ई. का यह रोमन शहर ज्वालामुखी और माउंट वेसुवियस के फटने से नष्ट हो गया था। 
 

उस भयानक त्रासदी से उबरने के बाद अब ऐसा दिखता है ये शहर

ज्वालामुखी फटने के कारण यहां के लोग 13 से 20 फीट नीचे दब गये। जब यह शहर पूरी तरह से नेस्तनाबूत हुआ था, तब इसकी आबादी लगभग 20 हज़ार थी। ऐसा माना जाता है कि शहर की पूरी आबादी की मौत ज्वालामुखी की राख और चट्टानों के नीचे दबने से हुई थी। इतना ही नहीं, इस ज्वालामुखी ने इंसानों को फ्रीज़ कर पत्थर सा बना दिया था।

ज्वालामुखी फटने से 13 से 20 फुट तक राख और पत्थरों के नीचे दब गए थे लोग

एक रिपोर्ट के मुताबिक, ज्वालामुखी फटते वक्त शहर का तापमान 250 डिग्री सेल्सियस (482 ° F) था, जो किसी इंसान को खत्म करने के लिए काफी था। ज्वालामुखी के कारण ऐसा विनाशकारी तापमान लगभग 10 किलोमीटर तक फैल गया था।

कई अवशेष अभी भी संभाल कर रखे गए हैं

ऐसा माना जाता है कि इस गर्मी से मरने के बाद ही ज्वालामुखी के लावा के कारण वे पत्थर के समान हो गये थे। इस शहर की खुदाई के बाद से लगातार पत्थर बन चुके शव बाहर आ रहे हैं।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।