कोरोना पीड़ित नर्स का मैसेज – तुम गलत जगह आ गए, एक हफ्ते में मैं तुमपर जीत हासिल कर लूंगी

New Delhi : “मुझे तुम्हारी हार को देखकर तुमसे सहानुभूति है। तुम केरल के लोगों और यहां के स्वास्थ्य कर्मियों को नहीं जानते। मेरे प्यारे दोस्त, तुम नहीं जानते कि ये केरल है, तुम गलत जगह आ गए हो। एक हफ्ते के अंदर मैं तुमपर जीत हासिल कर लूंगी और इस कमरे से निकल जाउंगी।”

केरल में कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गई एक नर्स का यह मैसेज पूरे देश को हिम्मत देने के लिये काफी है। इस संदेश में गजब का जज्बा है और कुछ ऐसी बात है जो इसे स्पेशल बनाती है।

इस नर्स ने अपनी हिम्मत का परिचय देते हुए आइसोलेशन वॉर्ड से ही एक खास संदेश दिया है। इस नर्स ने कोरोना वायरस को संबोधित एक संदेश लिखते हुए यह दावा किया है कि वह अगले एक हफ्ते में स्वस्थ हो जाएगी। नर्स का यह संदेश उन तमाम लोगों के लिए एक इंस्पिरेशनल मेसेज कहा जा सकता है, जो कोरोना के कहर के बीच डरे हुए नजर आ रहे हैं।
केरल के गर्वनमेंट मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वॉर्ड में भर्ती नर्स ने कोरोना वायरस को संबोधित एक वॉट्सऐप मेसेज लिखते हुए ये बातें कहीं। नर्स ने इस मेसेज का टाइटल लिखा, ‘एक बिन बुलाये आया दोस्त’। अपने मेसेज में नर्स ने कोरोना वायरस को संबोधित करते हुए लिखा, ‘मुझे तुम्हारी हार को देखकर तुमसे सहानुभूति है। तुम केरल के लोगों और यहां के स्वास्थ्य कर्मियों को नहीं जानते। मेरे प्यारे दोस्त, तुम नहीं जानते कि ये केरल है, तुम गलत जगह आ गए हो। एक हफ्ते के अंदर मैं तुमपर जीत हासिल कर लूंगी और इस कमरे से निकल जाउंगी।’
अपना ये खास मेसेज नर्स ने एक वॉट्सऐप ग्रुप में पोस्ट किया है, जो कि अब वायरल हो रहा है। कोरोना से संक्रमण के बाद इस नर्स को सरकारी अस्पताल के आइसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है। साथ ही उसके संपर्क में आने वाली 20 नर्सों की भी सख्त निगरानी की जा रही है। केरल कोरोना के कहर से बड़े स्तर पर प्रभावित तो हुआ है, पर राज्य की पी. विजयन सरकार ने इस बीमारी की रोकथाम के लिए कई बड़े कदम भी उठाए हैं। राज्य के अस्पतालों से लेकर सार्वजनिक स्थलों तक कोरोना से बचाव के खास इंतजाम करते हुए केरल ने देश के अन्य राज्यों के लिए एक बड़ा उदाहरण पेश किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four + five =