81 साल के नूर बख्श हैं बांग्लादेश क्रिकेट टीम के सच्चे फैन..फौज में रहकर लड़ चुके हैं युद्ध

New Delhi : भारत और बांग्लादेश के बीच क्रिकेट सीरीज ख़त्म गया है। लेकिन इस एक शख्स ने सबका ध्यान अपनी ओर खींचा है। इस शख्स का नाम है नूर बख्श, जो 81 साल के हैं और बांग्लादेशी फ़ौज में पूर्व सिपाही रह चुके हैं। भारत के पास अगर सुधीर कुमार चौधरी, पाकिस्तान के पास चाचा और श्रीलंका के पास पर्सी जैसे जबरदस्त समर्थक हैं तो बांग्लादेश के पास भी ‘नूर’ है।

बांग्लादेश की क्रिकेट टीम जहां भी खेलने जाती है, नूर टीम के पीछे चल देते हैं। जी नहीं, बाकियों की तरह उनका कोई प्रायोजक नहीं है। अपने से ही सारा खर्च उठाते हैं। बांग्लादेश के निर्माण के लिए 1971 में हुए मुक्ति युद्ध में भी उन्होंने हिस्सा लिया था। 1972 में बांग्लादेश की फौज में शामिल हुए और 1987 तक अपनी सेवाएं प्रदान कीं। दुबली-पतली काया, शरीर पर रंग-बिरंगा चोला, लंबी सफेद दाढ़ी, सिर पर बांग्लादेश के राष्ट्रध्वज की छाप वाली टोपी। यही उनकी पहचान है। ऐतिहासिक डे-नाइट टेस्ट मैच के दौरान ईडन गार्डन्स स्टेडियम में भी वह इसी अंदाज में नजर आए।

गौरतलब है कि कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डन्स ग्राउंड में खेले गए पिंक बॉल टेस्ट में टीमइंडिया ने बांग्लादेश को एक पारी और 46 रनों से मात दी है। दुसरी पारी में बांग्लादेश की टीम मात्र 195 रनों पर सिमट गई। विकेटकीपर मुश्फिकुर रहीम ने सर्वाधिक 74 रन बनाए। मेहमान टीम के कुल 9 विकेट गिरे। क्योंकि हरफनमौला महमुदुल्लाह 39 रन बनाकर रिटायर्ड हर्ट हो गए थे। दूसरी पारी में तेज गेंदबाज Umesh Yadav ने 5 विकेट लिए। वहीँ Ishant Sharma ने 4 विकेट लिए।

बांग्लादेश के निराशाजनक प्रदर्शन से नूर बख्श निराश नहीं हैं। उन्होंने कहा, “मैं अपने देश की क्रिकेट टीम से बेहद प्यार करता हूं और उसे हर जगह जीतते देखना चाहता हूं, लेकिन मैं जानता हूं कि हमेशा यह संभव नहीं है।”