पाक की नापाक हरकत, कुलभूषण जाधव को दूसरी बार कांसुलर एक्सेस देने से इनकार किया

New Delhi : पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को दूसरी बार कांसुलर एक्सेस देने से इनकार कर दिया है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल के तरफ से बयान आया है कि कुलभूषण जाधव तक कोई दूसरा कांसुलर पहुंच नहीं होगा।आपको बता दें कि 2 सितम्बर को पाकिस्तान ने जाधव को कांसुलर एक्सेस दिया था। इसके बाद कुलभूषण जाधव से भारतीय राजनयिक गौरव अहलूवालिया मुलाकात की थी।

 

बता दें कि जाधव मार्च 2016 से पाकिस्तान की जे’ल में हैं। पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारी को जा’सूसी और आ’तंकवाद के आ’रोप में पाकिस्तानी सै’न्य अदालत ने मौ’त की स’जा सुनाई थी। इसे बाद भारत जाधव को न्याय दिलाने के लिए इस मु’द्दे को अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में लेकर गया था।

पाकिस्तान की तरफ से कॉन्सुलर एक्सेस का पहले भी ऑफर दिया गया था, लेकिन इसमें उसने कुछ शर्तें जोड़ दी थीं जिसका भारत ने विरोध किया था। अब रविवार को पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने एक बार फिर कॉन्सुलर एक्सेस की जानकारी दी।

क्या थी पाकिस्तान की शर्त?

पाकिस्तान को इस मामले में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में मुंह की खानी पड़ी, जिसके बाद उसे कुलभूषण जाधव को कॉन्सुलर एक्सेस देने पर मजबूर होना पड़ा। हालांकि, पहले पाकिस्तान की ओर से शर्त लगाई गई थी जब भारतीय राजनयिक उससे मुलाकात करेंगे तब पाकिस्तान का एक अधिकारी भी उनके साथ होगा, हालांकि भारत को ये बात मंजूर नहीं थी। इसलिए ये प्रस्ताव काफी समय से लटका हुआ था।
कुलभूषण मामले में इंटरनेशनल कोर्ट ने 15-1 से भारत के पक्ष में फै’सला दिया था। न्यायालय ने यह भी कहा है कि जाधव की मौ’त की सजा तब तक नि’लंबित रहनी चाहिए जब तक कि पाकिस्तान प्रभावी रूप से पाकिस्तान के आर्ट 36 (1) के उल्लंघन के संदर्भ में स’जा / स’जा पर पुनर्विचार नहीं करता है, यानी कांसुलर एक्सेस और अधिसूचना से इनकार करता है आईसीजे ने योग्यता के आधार पर जाधव के अधिकार और अधिसूचना की पुष्टि करते हुए, योग्यता के आधार पर भारत के पक्ष में फै’सला सुनाया था।