पंथ-जाति के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए:प्रधानमंत्री मोदी

(New Delhi)संसद के सेंट्रल हॉल में नरेंद्र मोदी को सर्वसम्मति से नेता चुन लिया गया है।मोदी ने भाजपा और सहयोगी दलों के सांसदों को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में किसी भी नागरिक के साथ जाति या धर्म के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए।संविधान को साक्षी मानकर हम संकल्प लें कि देश के सभी वर्गों को नई ऊंचाइयों पर ले जाना है।हम सबको मिलकर 21वीं सदी में हिंदुस्तान को ऊंचाइयों पर ले जाना है।सबका साथ, सबका विकास और अब सबका विश्वास ये हमारा मंत्र है।


मोदी ने संबोधित करते हुए कहा कि नए उमंग और नए उत्साह से आगे बढ़ना है। हम नई ऊर्जा के साथ नई यात्रा के लिेए संकल्पबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि भारत का चुनाव विश्व के लिए अजूबा है। जनता ने सेवाभाव के चलते हमें स्वीकार किया। प्रचंड जनादेश जिम्मेदारियों को बढ़ा देता है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि एनडीए का दूसरा नाम एनर्जी है। सबको जोड़कर चलना समय की मांग है। छोटी सी जल्दबाजी से बात बिगड़ सकती है। हम सबको साथ लेकर चले हैं। जो बड़बोले होते है वो कुछ भी बोल देते हैं। ऐसी बातें परेशान करने वाली होती हैं।
उन्होंने कहा कि सत्ता-भाव न भारत का मतदाता स्वीकार करता है, न पचा पाता है।हम चाहे भाजपा या एनडीए के प्रतिनिधि बनकर आए हों, जनता ने हमें स्वीकार किया है सेवाभाव के कारण।हमारे लिए और देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए सेवा भाव से बड़ा कोई मार्ग नहीं हो सकता है