ISIS मॉड्यूल केस: NIA ने अमरोहा में फिर की छापेमारी, ISIS से जुड़े हो सकते है तार

New Delhi: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने 26 दिसंबर को दुनिया के आतंकी संगठन स्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) के आतंकवाद मॉड्यूल हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम का भंडाफोड़ किया। इस मामले में जांच करते हुए NIA आज उत्तर प्रदेश के अमरोहा पहुंची और पांच ठिकानों पर छापे मारी की। आपको बता दें कि एनआईए ने आतंकवादी संगठन ISIS के नए मॉड्यूल के सिलसिले में पिछले सप्ताह छापा मारा था।

लेकिन अमरोहा में छापेमारी को लेकर अब गांव वाले सवाल खड़ा कर रहे हैं। ग्रामीणों ने दावा किया है कि एनआईए और एटीएस जिसे रॉकेट लांचर बता रही है असल में वह डंपर में लगाया जाने वाला देसी प्रेशर पाइप और विस्फोटक लोहे का बुरादा है। आपको बता दें कि एनआईए और एटीएस की टीम ने गांव निवासी रईस और सईद को आतंकी कनेक्शन के आरोप में गिरफ्तार किया था। टीम ने दोनों भाइयों और अमरोहा से पकड़े सुहैल व इरशाद से विस्फोटक सामग्री एवं असलाह भी बरामद किए थे। आरोपियों से देसी लांचर बरामद किए जाने का दावा भी किया गया।

बताया जा रहा हैं कि IS मॉड्यूल के तार पाकिस्तान से जुड़े हैं। जांच में सामने आया है कि इस मॉड्यूल के मास्टरमाइंड मुफ्ती मोहम्मद सुहेल को अबु मलिक जो पाकिस्तान के पेशावर में रहता हैं, वह उसे निर्देश देता था।  आमतौर पेशावर शहर में रहने वाले लोग अपने नाम के आगे पेशावरी लगाते हैं। अधिकारी ने बताया कि मुफ्ती सुहेल और पेशावरी के बीच ऑनलाइन बात हुआ करती थी। सुहेल फेसबुक के जरिए पेशावरी के संपर्क में आया था।

nia

अधिकारी ने बताया कि फेसबुक पर मिलने के बाद सुहेल और पेशावरी की दोस्ती बढ़ गई और टेलीग्राफ, थ्रीमा जैसे चैट ग्रुप्स से बात होने लगी। अधिकारियों ने सुहेल के पास से मोबाइल फोन जब्त किया हैं और कई इलेक्ट्रॉनिक उपरकरणों के साथ उसे फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा। जिसके बाद ये ज्यादा जानकारी सामने आ पाई है।

दरअसल, दिल्ली पुलिस के विशेष सेल और उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधक दस्ते के साथ मिलकर दिल्ली के जाफराबाद और सीलमपुर में छह जगहों पर जबकि उत्तर प्रदेश में 11 जगहों पर छापेमारी की। उत्तर प्रदेश के अमरोहा में छह, लखनऊ में दो, हापुड़ में दो और मेरठ में दो जगहों पर छापेमारी की गई। लेकिन अब अमरोहा के छापेमारी कर लेकर अब गांव वाले खुफिया एजेंसियों की छापेमारी पर सवाल खड़ा कर रहे हैं।