अब नेपाल ने चीन को दिखाई आंख, गिरफ्तार कर लिए 120 चीनी नागरिक

New Delhi : नेपाल की राजधानी पुलिस ने काठमांडू से 120 चीनी नागरिकों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इन लोगों के पास से पांच सौ से अधिक लैपटॉप भी जब्त किए हैं। दरअसल, काठमांडू पुलिस चीफ ने कहा कि संदिग्ध गतिविधियों में लिप्त होने की सूचना के बाद सोमवार को छापे में संदिग्धों को राउंड अप किया गया था। रायटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, नेपाल पुलिस चीफ ने कहा कि यह पहली बार है कि इतने सारे विदेशियों को संदिग्ध आपराधिक गतिविधियों में लिप्त पाया गया है।

वहीं एक अन्य पुलिस अधिकारी होबिन्द्र बोगटी ने कहा कि चीनी दूतावास छापे के बारे में जानता था और उसने गिरफ्तार किए गए लोगों का समर्थन भी किया था। हालांकि चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा कि चीन ने मामले में नेपाली पुलिस का सहयोग किया है। चीन अपने पड़ोसी के साथ कानून-प्रवर्तन सहयोग बढ़ाने के लिए तैयार है।

बता दें कि नेपाल और चीन ने अक्टूबर में राष्ट्रपति शी जिनपिंग की नेपाल यात्रा के दौरान आपराधिक मामलों में आपसी सहायता पर एक संधि पर हस्ताक्षर किए हैं। चीन हाल के वर्षों में सड़कों, बिजली संयंत्रों और अस्पतालों जैसे क्षेत्रों में नेपाल में अपना निवेश बढ़ा रहा है।

चीन के नागरिकों पर यह पहली बार नहीं है कि ऐसा आरोप लगा हो। वे पहले भी कई एशियाई देशों में इस तरह की गतिविधियों में संलिप्त पाए गए हैं। पिछले दिनों फिलीपींस में पुलिस ने 342 चीनियों को गिरफ्तार किया, जो बिना लाइसेंस जुए की गतिविधियां चला रहे थे। इससे पहले सितंबर में पांच चीनी नागरिकों को एटीएम हैक कर उससे पैसे चुराने के आरोपों में गिरफ्तार किया गया।

इसके अलावा अक्टूबर में मंगोलिया में 800 चीनी नागरिकों को मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामलों की छानबीन के दौरान गिरफ्तार किया गया।