कुंभ: डूबते श्रद्धालु को बचाने के लिए अपनी जान कुर्बान कर गया NDRF का यह जवान, देश कर रहा सलाम

नई दिल्ली : प्रयागराज में कुम्भ मेले के दौरान डूबते व्यक्ति को बचाते हुए घायल हुए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) जवान राजेन्द्र गौतम दिल्ली के एम्स में ज़िन्दगी से जंग हार गए। बता दें कि 19 फरवरी को कुंभ मेले में उन्होंने एक व्यक्ति को डूबते हुए देखा। उसे बचाने के लिए राजेंद्र ने पानी में छलांग लगा दी। इससे उनकी गर्दन पानी के अंदर पौड़ी से टकरा गई थी। इससे उन्हें गंभीर चोटें आ गई जिसके बाद उन्हें दिल्ली एम्स में भर्ती करवाया गया था। जहां 21 फ़रवरी को उनकी मौ’त हो गई।

गौरतलब है कि 19 फरवरी को कुम्भ के सेक्टर 20 में सोमेश्वर घाट पर सुबह एक श्रद्धालु नहाते समय डूबने लगा तो राजेंद्र गौतम ने बिना समय गवाएं बिना श्रद्धालु की जान बचायी। राजेंद्र ने डूबते श्रद्धालु को बचाने के लिए नदी में छलांग लगा दी और अपने कर्त्तव्य “आपदा सेवा सदैव” को सार्थक करते हुए उसकी जान को अपनी जान से ज्यादा कीमती समझते हुए उसे पानी से बाहर निकालने लगे, उसी दौरान पानी में किसी सख्त वस्तु से टकरा गए जिससे उनकी गर्दन में गंभीर चोट आ गई।

घायल अवस्था में भी राजेंद्र डूबते व्यक्ति की जान बचाने में लगे रहे उन्होंने उसका हाथ तब तक नहीं छोड़ा जब तक उसे बाहर नहीं निकाल लाये। ज्यादा चोट लगने के कारण वे अचेत होकर पानी में गिर पड़े। साथियों ने घायल जवान को स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने बताया कि रीड़ की हड्डी टूट गई। इस पर उन्हें दिल्ली रेफर कर दिया गया था। 20 फरवरी को उनका आपरेशन किया गया था।

बता दें कि हिमाचल प्रदेश के विलासपुर जनपद के लाहर गांव निवासी राजेन्द्र गौतम बीएसएफ में तैनात थे। वह साल 2013 में पटना स्थित 9 वीं वाहनी एनडीआरएफ में नियुक्त किया गया। राजेन्द्र बिहार की भीषण बाढ़ व अन्य राहत बचाव में अच्छी भूमिका निभाई थी।

इनपुट – ANI