अजित पवार ने मानी अपनी गलती, पार्टी में उनकी पोजीशन में नहीं हुआ कोई बदलाव: नवाब मलिक

New Delhi: महाराष्ट्र में एक महीने से जो सियासी ड्रामा चल रहा था, वह खत्म हो गया है। इस ड्रामे के सबसे मुख्य पात्र अजित पवार वापिस अपने खेमे में लौट आए हैं। इस पर एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि आखिर में उन्होंने अपनी गलती मान ली। यह पारिवारिक मामला है और पवार साहब ने उन्हें माफ कर दिया है। वह पार्टी में हैं और पार्टी में उनकी पोजीशन नहीं बदली है।

वहीं अजित पवार ने भी साफ कर दिया है कि वे अभी एनसीपी में ही हैं और उन्होंने कभी भी पार्टी नहीं छोड़ी।

वहीं अजित पवार बुधवार सुबह महाराष्ट्र विधानसभा के विशेष सत्र में शामिल हुए। सुप्रिया सुले ने अजित पवार का गले मिलकर उनका स्वागत किया। बड़े भाई अजित पवार से गले मिलने के बाद सुले ने उनके पैर भी छुए।

महाराष्ट्र के पूर्व डिप्टी सीएम अजित पवार ने देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफा देने से कुछ समय पहले मंगलवार को अपना इस्तीफा सौंप दिया था।

बता दें कि बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद महाराष्ट्र में सियासी खेल एकदम से पलट गया। एक महीने से चल रहा सियासी घटनाक्रम खत्म हुआ और इसी बीच शिवसेना अध्यक्ष उध्दव ठाकरे का मुख्यमंत्री बनना तय हो गया है। उध्दव ठाकरे 28 नवंबर को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। पहली बार शिवसेना परिवार का कोई नेता राज्य का मुख्यमंत्री बन रहा है।

एनसीपी के महाराष्ट्र प्रमुख जयंत पाटिल ने अगले मुख्यमंत्री के रूप में उध्दव ठाकरे का नाम प्रस्तावित किया था। राज्य में कांग्रेस के प्रमुख बालासाहेब थोराट ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दी। बैठक में एनसीपी प्रमुख शरद पवार, पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल, कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण, समाजवादी पार्टी के अबू आजमी, स्वाभिमानी शेतकारी संगठन के राजू शेट्टी और इन सभी दलों के सभी विधायक मौजूद थे। तीनों दलों ने अपने गठजोड़ का नाम ‘महाराष्ट्र विकास आघाड़ी’ नाम दिया है।

महाराष्ट्र में सफल लैंड हुआ हमारा सूर्ययान, दिल्ली में भी उतरे तो आश्चर्य नहीं: संजय राउत

सुप्रिया सुले ने गले मिलकर किया अजित पवार का स्वागत, कहा- खट्ठा- मीठा चलता रहता है