नवाजुद्दीन बोले- आज भी मुझे अहसास कराया जाता है कि मैं छोटी जाति से हूं, स्वीकार नहीं किया गया

New Delhi : नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने आज उत्तर प्रदेश खासकर अपने इलाके में जातिवाद के जहर पर बोलते हुये कहा कि जाति लोगों की नसों में लहू बनकर दौड़ता है। आप कितनी भी कोशिश कर लें, जाति आपका पीछा नहीं छोड़ती। आप किसी भी ओहदे पर चले जायें, आप कितनी भी तरक्की पसंद हो, तरक्की कर रहे हों, आपको शोहरत मिल रही हो। लोग अंत में, खासकर आपके घर चौबारे पर आपको जाति के तराजू में तौलेंगे और आपको आपकी जाति का अहसास कराकर ही रहेंगे। अगर आपकी जाति को वे छोटा समझते हैं तो वे ऐसा बिहेव करेंगे कि आपको यह अंदर तक महसूस हो कि आप नीच जाति के हैं।

नवाजुद्दीन ने एक न्यूज चैनल से बात करते हुये कहा कि आखिर में मुझे आज भी यह अहसास कराया जाता है, मेरे घर पर, मेरे गांव में, मेरे लोगों के बीच कि मैं छोटी जाति का हूं। ऐसा इसलिये क्योंकि मेरी दादी छोटी जाति से आती थीं। सालों पहले की बात आपको सिर्फ इसलिये बताई जाति है कि आपको यह अहसास रहे कि आप छोटी जाति के हैं। अब मैं इतना मशहूर हो चुका हूं। मैं इन सबसे आगे बढ़ चुका हूं, लेकिन मुझे भी यह महसूस कराया जाता है। आपके साथ ऐसी बातें होंगी कि आपको ऐतराज होगा, अच्छा नहीं लगेगा पर आप कुछ नहीं कर पायेंगे, कुछ कह नहीं पायेंगे क्योंकि जाति रगों में दौड़ रहा है यहां के लोगों में।
नवाजुद्दीन बोले- इलाके में लोग अपनी-अपनी जातियों पर, अपनी जाति को उच्च साबित हो जाने पर, अपने को उच्च जाति का पाने पर गर्व करते हैं। शेख सिद्दीकी ऊंची जाति के हैं और उन्हें उन लोगों से कोई लेना-देना नहीं है, जिन्हें वे अपने से नीचा मानते हैं। आज भी वहां ऐसा है। यह बहुत मुश्किल है।

उत्तर प्रदेश के हाथरस घटना पर नवाज बोले- जो गलत है, वो गलत है। बोलना बहुत जरूरी है। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। लोग कह सकते हैं कि जातिगत भेदभाव नहीं है। लेकिन, अगर वही लोग आसपास की यात्रा करें तो उन्हें अलग सच्चाई पता चलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

forty three − = 42