कांग्रेस की हार का दर्द छुपाने के लिए सिद्धू ने कहा, गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में

New Delhi : लोकसभा चुनावों में कांग्रेस की हार के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने शायराना अंदाज में बचाव किया। सिद्धू ने ट्वीट कर लिखा –     गिरते हैं शहसवार (घुड़सवार) ही मैदान-ए-जंग में,
                                  वो तिफ़्ल (छोटा बच्चा) क्या गिरे जो घुटनों के बल चले।

आपको बता दें कि आज ही संसद के सेंट्रल हॉल में कांग्रेस ने सोनिया गांधी को संसदीय दल का नेता चुना गया है। इस दौरान पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद थे।

आपको बता दें कि पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच भी टकराव जारी है। कैप्टन ने जहां सिद्धू से उनका विभाग छीनने का ऐलान कर दिया है, वहीं सिद्धू ने अपने कामकाज को लेकर सफाई दी है और साथ में कैप्टन अमरिंदर सिंह पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा कि उनको पार्टी के लोगों से गालियां दिलाई जा रही हैं लेकिन वे इस पर भी चुप हैं।

ये भी पढ़ें – ये जो सेक्युलरिज्म के सियासी सूरमा है,इन्होंने देश के मुसलमानों को किराएदार बना रखा था- नकवी

नवजोत सिंह सिद्धू अपने बेबाक अंदाज, शेर और शायरियों के लिए जाने जाते हैं। पिछले कुछ सालों से वो लगातार विवादों में रहे हैं। पंजाब के विधानसभा चुनाव के दौरान वो भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे। कभी नरेंद्र मोदी के प्रशंसक रहने वाले सिद्धू वर्तमान में उनके धुर-विरोधी माने जाते हैं। नोटबंदी से लेकर जीएसटी तक के मुद्दों पर वो मोदी सरकार को खूब घेरते आए हैं।

उनको लेकर विवाद तब शुरु हुआ जब वो पाकिस्तान जाकर वहां के सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा के गले लगे थे। इसके बाद उनकी खूब आलोचना भी हुई थी। उन्हें देश-विरोधी भी कहा गया। दूसरी बार वो विवादों में तब रहे जब पुलवामा हमले के बाद उनका बयान आया था। उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान और भारत को बातचीत के जरिए ही ये मामला सुलझाना चाहिए। जानकारों का कहना था कि सिद्धू की बात सही है लेकिन ये बातचीत का सही समय नहीं है।