नवजोत कौर का बयान, मैं कार्यक्रम में जाती हूं और हादसा हो जाता हैं तो मैं जिम्मेदार कैसे ?

New Delhi: रावण दहन के समय दशहरा के दिन अमृतसर ट्रेन हादसे की जांच कर रहे विशेष कार्यकारी मजिस्ट्रेट ने पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्नी नवजोत कौर सिद्धू को क्लीन चिट दे दी है। इस पर नवजोत कौर ने कहा कि अगर मुझे किसी कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए बुलाया जाता हैं और वहां कोई घटना हो जाकी हैं, तो मैं इसके लिए जिम्मेदार कैसे हूं, यह सब सिद्धू परिवार का नाम खराब करने की साजिश हैं।

नवजोत कौर को क्लीन चिट देने के बाद माना जा रहा हैं कि हादसे की जिम्मेदारी समिति के अध्यक्ष और आयोजक सौरभ मिथु मादा और कांग्रेस काउंसिलर के बेटे को लेनी चाहिए थी, क्योंकि उन्होंने ही इस कार्यक्रम के लिए इस स्थल का चुनाव किया था। जांच रिपोर्ट मुताबिक, हादसे वाले दिन सिद्धू अमृतसर में थे ही नहीं, वहीं मुख्य अतिथि के तौर पर यहां पुहंची थी, उन्हें भी इसका दोषी नहीं ठहराया जा सकता, क्योंकि मुख्य अतिथि का काम केवल उस कार्यक्रम में पहुंचने का होता हैं। हादसे के समय मुख्य अतिथि के उस स्थान को छोड़कर चले जाने तक हम सवाल नहीं उठा सकते। वह इसकी के जिम्मेदार नहीं है।

amritsar accident

आपको बता दें कि अमृतसर में 19 अकट्बूर को यानी दशहरा के मौके पर रावण दहन के दौरान हुए रेल हादसे में 60 से ज्यादा लोगों की जान चली गई। यह हादसा अमृतसर और मनावला के बीच फाटक नंबर 27 के पास हुआ। यह हादसा उस वक्त हुआ, जब रावण देखने के लिए लोगों की भीड़ जुटी हुई थी। इस हादसे ने सबको झंझोड़ कर दिया।

आपको यह भी बताते हुए चले कि मुजफ्फरपुर में सामाजिक कार्यकर्ता तमन्ना हाशमी ने मामला दर्ज कराते हुए हादसे का जिम्मेदार नवजोत कौर का बताया था। एक वीडियो में दिखाई दे रहा हैं कि हादसे के 2 मिनट बाद ही यानी 6.56 मिनट पर एक लड़का मंच के करीब पहुंचा और नवजोत कौर से बात करने लगा। आपको बता दें कि 6.54 मिनट पर ये हादसा हुआ था। वहीं हादसे के बाद नवजोत कौर ने अपने सफाई में कहा कि वो हादसे से 15 मिनट पहले ही निकल गई थी।