नसीरुद्दीन शाह का बयान-मुझे डर हैं कि कहीं लोग मेरे बच्चों से न पूछे कि तुम हिंदू हो या मुसलमान

NEW DELHI: बॉलीवुड में अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने अपने बयान में समाज में जहर फैलने वाली बात कही। नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि देश में असहिष्षुणता को लेकर नई बहस छिड़ गई है। नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि असहिष्णुता का जिन्न अब बाहर हैं और इसे वापस बोतल में रखने का कोई तरीका नहीं हैं। उन्हों ने बुलंदशहर हिंसा का जिक्र करते हुए कहा कि गोवध को लेकर भीड़ के गुस्से ने एक पुलिसकर्मी की जान ले ली। हमने देखा कि कैसे एक गाय की मौत को पुलिसकर्मी के जिंदगी से से ज्यादा महत्व दिया हैं।

इस दो मिनट के वीडियो में नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि कानून को हाथ में लेने की खुली छूट मिली हुई है, एक पुलिस अफसर से ज्यादा एक गाय की मौत को अहमियत दी जा रही है। मुझे फिक्र होती है कि मेरे बच्चों की, कल को उन्हें किसी भीड़ ने घेर लिया और पूछा कि तुम हिंदू हो या मुसलमान.. इन हालात को देखकर मुझे गुस्सा आता है, सही नजरिया रखने वाले हर इंसान को गुस्सा आना चाहिए न कि डरना चाहिए। हमारा घर है ये, हमें कौन निकाल सकता है यहां से। नसीरुद्दीन शाह ने कहा भलाई और बुराई का धर्म से कोई लेना-देना नहीं हैं।

https://www.youtube.com/watch?time_continue=130&v=Uh18VUfQJvA

हाल ही में अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने क्रिकेटर विराट कोहली पर निशाना साधते हुए बयान दिया था। नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि विराट कोहली  दुनिया के बेहतरीन बैट्समैन हैं, मगर इसके साथ ही वो दुनिया के सबसे बदतमीज और बुरा बर्ताव करने वाले प्लेयर भी हैं। नसीरुद्दीन का ये बयान सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। कुछ लोगों ने इस बयान का समर्थन किया तो कुछ ने नसीरुद्दीन से खफा होकर अपनी प्रतिक्रिया दी।

इस बयान पर उत्तर प्रदेश के खेल मंत्री चेतन चौहान ने कहा कि विराट कोहली बहुत अच्छे खिलाड़ी हैं। उन जैसे स्तर के खिलाड़ी से काफी कुछ अपेक्षित होता है। लोग आपको बुलाना चाहते हैं, आपसे बात करना चाहते हैं। वे आपके साथ फोटो खिंचवाना चाहते हैं। उस स्तर के खिलाड़ी को यह सब करना पड़ता है। वह अपना सर्वश्रेष्ठ खेल रहे हैं। शायद यही काम नसीर को करना चाहिए। लेकिन उनकी टिप्पणी गैरजरूरी थी।