गरीबों-किसानों के मसीहा हैं नाना पाटेकर..आज भी 1BHK के फ्लैट में रहते हैं-जमीन पर खाना खाते हैं

New Delhi : 1978 में आई फिल्म ‘गमन’ से डेब्यू करने वाले नाना पाटेकर को फिल्म इंडस्ट्री में करीब 4 दशक बीत चुके हैं। इस दौरान नाना ने कई फिल्मों में काम किया। वेबसाइट नेटवर्दियर की रिपोर्ट के मुताबिक, नाना करीब 10 मिलियन डॉलर (72 करोड़) की प्रॉपर्टी के मालिक हैं। इसमें उनके फॉर्महाउस, कारें और दूसरी संपत्ति भी शामिल है।

हालांकि बावजूद इसके नाना बेहद साधारण लाइफ जीना पसंद करते हैं। नाना पाटेकर के पास पुणे के नजदीक खड़कवासला में 25 एकड़ में फैला शानदार फॉर्महाउस है। शहर की भीड़भाड़ से दूर नाना को जब भी रिलैक्स करना होता है तो वो यहीं जाते हैं। डायरेक्टर संगीत सिवान की 2008 में आई फिल्म ‘एक : द पावर ऑफ वन’ की शूटिंग भी नाना के इसी फॉर्महाउस में हुई थी। यहां तक कि नाना अपने इस फॉर्महाउस के आसपास धान, गेहूं और चना की खेती भी करते हैं। नाना पाटेकर के इस फॉर्महाउस में 7 कमरों के अलावा एक बड़ा सा हॉल भी है।

इसमें नाना के इंट्रेस्ट के मुताबिक, सिंपल वुडन फर्नीचर और टेराकोटा फ्लोर है। नाना ने घर के हर एक कमरे को अपनी बेसिक स्टाइल और जरूरत के मुताबिक सजाया है। इसके अलावा घर के आसपास कई तरह के पौधे भी लगाए गए हैं। फार्महाउस में बड़ी संख्‍या में दुधारू गाय-भैंसे भी हैं। नाना पाटेकर के पास मुंबई के अंधेरी में एक फ्लैट है। नाना के मुताबिक, वो यहां 750 स्क्वेयर फीट के 1 BHK फ्लैट में रहते हैं। यह फ्लैट उन्होंने 90 के दशक में महज 1.10 लाख में खरीदा था। हालांकि आज इस फ्लैट की कीमत करीब 7 करोड़ रुपए आंकी जाती है। टाइम्स नाऊ डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, नाना पाटेकर के पास 81 लाख रुपए कीमत की ऑडी Q7 कार है। इसके अलावा उनके पास एक 10 लाख की एक महिन्द्रा स्कॉर्पियो और 1.5 लाख की कीमत की रॉयल एनफील्ड क्लासिक 350 भी है।

नाना बेहतरीन स्केच आर्टिस्‍ट हैं और बड़े-बड़े केसेज में उन्‍होंने मुंबई पुलिस की मदद अपनी कला के माध्‍यम से की है। नाना पाटेकर कहते हैं कि वे फिल्‍मों में शौक से नहीं बल्कि जरूरत ने उन्‍हें एक्‍टर बनाया था। यही वजह है कि वे आज भी साधारण हैं। उन्‍होंने फिल्‍मों में आने से पहले सड़क पर जेब्रा क्रॉसिंग भी पेंट किए हैं। वे अप्‍लाइड आर्ट में पोस्‍ट ग्रैजुएट हैं।

बॉलीवुड हमेशा से देश की समस्‍याओं को रूपहले पर्दे पर दिखाता आया है लेकिन नाना ऐसे हैं जो पर्दे से हटकर भी दिखाते हैं। 2015 में मराठवाड़ा और लातूर के सूखाग्रस्‍त किसानों को उन्‍होंने सरकार से पहले मदद पहुंचाई थी। लगभग 100 किसान परिवारों को नाना पाटेकर ने 15-15 हजार रुपए के चेक बांटे थे। वे किसानों की मदद के लिए एक एनजीओ भी चलाते हैं।