आंध्र प्रदेश में रेत संकट को लेकर 12 घंटे के धरने पर बैठे चंद्रबाबू नायडू

New Delhi: आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) के प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू आज 12 घंटों के लिए ध’रने पर बैठ गए हैं। ध’रने पर बैठ नायडू सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के खिलाफ मो’र्चा खोल दिया है। राज्य में रेत संकट की समस्या को लेकर मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी के वि’रोध में ध’रने-प्र’दर्शन किए जा रहे हैं।

रेत दीक्षा के तहत नायडू विजयवाड़ा में 12 घंटों के लिए ध’रने-प्र’दर्शन पर जुट गए हैं। वहीं इस पूरे प्रकरण में मीडिया से मुखातिब होते हुए नायडू ने कहा है कि सभी राजनीतिक दल इस रेत की कमी के खिलाफ ल’ड़ रहे हैं। रेत की मांग करने वाले विपक्षी नेताओं को सत्ता पक्ष गा’ली देने से पीछे नहीं हट रहे हैं। आगे उन्होंने कहा कि “हम भी गा’लियां दे सकते हैं, लेकिन हम गरिमा बनाए हुए हैं। हमें गा’ली देना बंद करो, उस समय का उपयोग रेत प्रदान करने के लिए करो।”

टीडीपी ने राज्य सरकार पर आ’रोप लगाया है कि रेत संकट ने पूरे आंध्रप्रदेश में निर्माण कार्यों के कारोबार को ठ’प कर दिया है। इस कारोबार से जुड़े लोगों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। सीमेंट, स्टील और 25 अन्य उद्योगों से जुड़े करीब 150 कारोबार रेत संकट से प्रभावित हो चुके हैं।

लोगों को नौकरियों से हाथ धोने पड़ रहे हैं। टीडीपी ने दावा किया है कि लाखों लोगो की नौकरियां जा रही हैं और करीब 35 श्रमिक खु’दकुशी कर चुके हैं।