पटना में 40 साल से हो रही भ्रष्टाचार के इस मुकदमे की सुनवाई

पटना में 40 साल से हो रही भ्रष्टाचार के इस मुकदमे की सुनवाई

By: Manvi
August 10, 09:36
0
NEW DELHI: इसी वर्ष जनवरी में सुप्रीम कोर्ट ने यह आंकड़ा जारी किया था कि औसतन हर हाईकोर्ट में 1.65 लाख केस पेंडिंग हैं। जिसमें 19 प्रतिशत केस ऐसे हैं जो दस साल पुराने हैं।


बिहार के पटना में  भ्रष्टाचार के एक मामले की सुनवाई पिछले 40 सालों से चल रही है। इस मामले में अभियुक्त पीडब्ल्यूडी के इंजीनियर की उम्र 100 साल के करीब हो गई है। उम्र अधिक होने के कारण अभियुक्त सुनवाई पर नहीं आते। पटना के  विशेष कोर्ट में इस मामले की अगली सुनवाई 20 अगस्त 2018 को है।दरअसल हरिद्वार पांडेय लोक निर्माण विभाग के एक्जीक्यूटिव इंजीनियर के पद से रिटायर्ड हुए थे। आरोप है कि उन्होंने अपने सर्विस के दौरान भ्रष्टाचार से खूब पैसे बनाए। 1978 में विजिलेंस विभाग ने उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया था। 1983 तक यह केस सीजेएम कोर्ट में चला।

जिसके बाद 1983 में मामले को पटना भेज दिया गया। पुलिस आज तक उनके खिलाफ एक भी सबूत नहीं जुटा पाई है। इसकी वजह से 40 सालों से तीरखों का ऐसा सिलसिला चला आ रहा है जो खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। केस से संबंधित लोगों का कहना है कि पांडेय को करीब एक साल से कोर्ट में नहीं देखा गया है। बताया जाता है कि वह अदालत आने में असमर्थ हैं।


भारतीय न्यायालयों में लंबित मामले

जनवरी 2018 में सुप्रीम कोर्ट की तरफ से केंद्रीय कानून और न्याय मंत्रालय को उपलब्ध कराई गई जानकारी के अनुसार, एपेक्स कोर्ट में 18 दिसंबर तक 54,719 केस पेंडिंग हैं। पांच साल से ज्यादा तक पेंडिंग रहने वाले केसों की संख्या 15,929 है जो कि कुल केस का 29 फीसदी है। वहीं, 10 साल से ज्यादा तक पेंडिंग पड़े केसों की संख्या 1550 हैं।

वहीं, औसतन हर हाईकोर्ट में 1.65 लाख केस पेंडिंग हैं। नेशलन जुडिसिय डेटा ग्रिड में उपलब्ध डेटा के मुताबिक, 26 दिसंबर तक हाईकोर्ट में 34.27 लाख केस पेंडिंग हैं। हालांकि इसमें इलाहाबाद हाईकोर्ट और जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट को शामिल नहीं किया 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।