एक दूसरे से बिल्कुल अलग है तीनों सेनाओं के Salute करने का अंदाज, क्या आपको पता है इसका राज

एक दूसरे से बिल्कुल अलग है तीनों सेनाओं के Salute करने का अंदाज, क्या आपको पता है इसका राज

By: Rohit Solanki
May 16, 22:24
0
New Delhi: भारत की तीनों सेनाएं हर मोर्चे पर देश की उम्मीदों पर खरी उतरी है।

कैसी भी परिस्थिति हो हमारी सेनाओं ने देश की शान पर कभी आंच नहीं आने दी। सेना से जुड़ी कई ऐसी चीजें हैं जो आम आदमी को अपनी तरफ आकर्षित करती है, लेकिन आज भी कई ऐसी छोटी-छोटी चीजें हैं जिनके बारे में आम आदमी को पता नहीं होता। आज भारत की तीनों सेनाओं से जुड़ी ऐसी ही कुछ जानकारी हम आपके लिए लेकर आए हैं।

आज हम भारत की जल, थल और वायुसेना के सल्यूट करने के तरीके के बारे में बात करने जा रहे हैं। आपने कभी ध्यान दिया होगा कि तीनों सेनाओं के सल्यूट करने का तरीका एक दूसरे से बिल्कुल अलग है। जहां भारतीय सेना अपने हथेली की सारी अंगुलिया सामने की ओर कर सल्यूट करती है, वहीं वायुसेना 45 डिग्री के कोण पर सल्यूट करती है, जबकि नौसेना के जवानों की सल्यूट कुछ ऐसी होती है, जिससे उनकी हथेली पर नजर नहीं जाती।

अपने हाथ की सभी उंगलियां दर्शाते हुए सल्यूट करते हैं थलसेना के जवान

भारतीय थल सेना के सल्यूट का तरीका: Indian Army के सल्यूट करने का तरीका सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है। इसके पीछे एक कारण भी दिया जाता है। Army के अफसर और जवान Salute करते वक्त अपनी हथेली की सारी उंगलियां दर्शाते हैं, ताकि वो दूसरे को ये एहसास दिला सकें कि सल्यूट करते वक्त उनके पास कोई हथियार नहीं है और सल्यूट लेने वाला उनपर भरोसा कर सकता है।

नौसेना के जवान अपने हाथ की सभी उंगलियां छुपाकर ठोकते हैं सल्यूट

भारतीय नौसेना के सल्यूट का तरीका: भारतीय नौसेना के सल्यूट का तरीका इतिहास से जुड़ा है। दरअसल, सालों पहले जब भारतीय नाविक जहाजों पर काम करते थे तो उनके हाथ तेल और ग्रीसिंग की वजह से गंदे हो जाते थे और अक्सर उन्हें चोट भी लग जाती थी। उस वक्त अपने गंदे हाथों को छुपाने के लिए भारतीय नौसेना के कुछ जवानों ने कुछ इस तरह सल्यूट मारना शुरू किया जिससे उनकी हथेली दूसरा न देख पाए। बस, यहीं से सल्यूट का ये तरीका प्रसिद्ध हो गया।

भारतीय वायुसेना के जवान 45 डिग्री का कोण बनाते हुए करते हैं सलाम

वायुसेना के सल्यूट का तरीका: भारतीय वायुसेना के जवान और सभी अफसर 45 डिग्री के कोण पर सलाम ठोकते हैं। पहले भारतीय वायुसेना भी Indian Army की तर्ज पर सभी उंगलियां दिखाते हुए सलाम ठोकती थी, लेकिन बाद में इसे बदल दिया गया। दरअसल, 45 डिग्री का कोण किसी भी विमान के उड़ान भरने का तरीका दर्शाता है। इसी को देखते हुए भारतीय वायुसेना ने इसे अपना लिया।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।