MP सियासी संकट : कांग्रेस मंत्री ने किया शत्रु विनाशक तांत्रिक अनुष्ठान, मंदिरों में भी मत्था टेक रहे विधायक

New Delhi : मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार के गिरने की आशंकाओं के बीच राज्य मंत्री पीसी शर्मा ने शनिवार को आगर मालवा जिलेके प्रसिद्ध बागलामुखी मंदिर में हवन (अग्नि अनुष्ठान) किया। मंदिरतांत्रिक‘ (गुप्त) अनुष्ठानों के लिए जाना जाता है और लोग अक्सरमनोकामना पूर्ति के लिए यहाँ परहवनकरते हैं। निश्चित ही शर्मा भी सरकार को लेकर अपनी मनोकामना पूरी करने के लिये हवन करारहे हैं।

राज्य के लगभग सभी मंत्री और विधायक राजस्थान में हैं और वहाँ भी मंदिरों की चौखट पर मत्थे टेक रहे हैं। ज्यादातर विधायकों ने आजप्रसिद्ध खाटूश्याम मंदिर सहित कई और मंदिरों में भी प्रार्थना, अर्चना की। ज्योतिरादित्य सिंधिया के विद्रोह करने और भाजपा में शामिलहोने के बाद, कमलनाथ सरकार बचाने की जी तोड़ कोशिश में लगे हैं।

इधर बेंगलुरू में शनिवार को अजीब सियासी सन्नाटा पसरा रहा। कांग्रेस के बागी विधायक दिनभर गोल्फसायर रिजॉर्ट में रहे। कांग्रेस केदोनों मंत्री भी चले गए। कहीं कोई मैदानी हलचल नजर नहीं आई, लेकिन जमीनी रणनीति बनती रही। कर्नाटक पैटर्न की तर्ज पर भाजपाबागी विधायकों को सीआरपीएफ के पहरे में लेकर निकलेगी। ग्रीन कॉरिडोर बनेगा। एयरपोर्ट तक काफिले में कोई नहीं घुस सकेगा।सारे वाहन रोके जाएंगे। कांग्रेस सुरक्षा कवच तोड़ने की तमाम कोशिश करेगी। कमलनाथ सरकार को 16 मार्च को फ्लोर टेस्ट में बहुमतसाबित करना होगा।

कर्नाटक फॉर्मूले में अभी तक चल रहे सरकार गिराओ घटनाक्रम पर कांग्रेस की नजरें जमी हुई हैं। अभी तक 6 विधायकों के इस्तीफे कोमंजूर करने तक सब कुछ एक जैसा चल रहा है। कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार आखिरी उपचुनाव तक जाने के दांव में चूकगई थी। अब रास्ता यहीं निकाला जा रहा है कि कैसे भी कुछ विधायक भाजपा में जॉइन नहीं करें। फ्लोर टेस्ट में सरकार के साथ खड़े होजाए।

भाजपा तयशुदा रणनीति के तहत और बी प्लान तैयार कर रही है। कांग्रेस को चकमा देने के लिए विधायकों को अलगअलग रिजॉर्टमें ठहराया गया है। ऐसे ही एयरपोर्ट से वापसी के बाद दो दिन के लिए चार्टर्ड बुक हैं। फ्लोर टेस्ट के लिए इशारा मिलने पर सभी पहुंचेंगे।15 और 16 मार्च दोनों दिन उड़ान की तैयारी है।

कांग्रेस के पूर्व सीएम सिद्धारमैया सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे यूएस उगरप्पा अचानक दोपहर में रिजॉर्ट पहुंचे। वे भीतर जाने की कोशिशकर रहे थे, लेकिन पुलिस ने जाने नहीं दिया। विवाद की स्थिति भी बनी। उन्होंने कहा कि मैं विधायकों से मिलने नहीं, परिचित केआयोजन में शामिल होने आया हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty nine + = thirty eight